स्वतंत्रता दिवस 2019: हर 15 अगस्‍त को कोई न कोई योजना लांच करते रहे हैं पीएम नरेंद्र मोदी

News State Bureau  |   Updated On : August 15, 2019 07:45:19 AM
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झंडारोहण करते हुए

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झंडारोहण करते हुए (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को दी बधाई.
  •  आज भारत अपना 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. 
  •  15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश राज से मिली थी आजादी.

नई दिल्ली:  

Independence Day 2019: पिछले पांच बार से पीएम मोदी (PM Narendra Modi) लाल किले (Red Fort) के प्राचीर से कोई ना कोई नयी योजनाओं की घोषणा करते रहे हैं. स्वच्छ भारत अभियान, मेक इन इंडिया, स्टार्ट अप एंड स्टैंड अप इंडिया, वन रैंक वन पेंशन, गांवों में बिजली पहुंचाना और योजना आयोग को बदलकर नीति आयोग बनाना, ये सभी घोषणाएं 15 अगस्त को ही हुई हैं. अपने पिछले भाषण में पीएम मोदी ने एनडीए सरकार के चार साल का हिसाब किताब दिया था.

अगर उनके पिछले भाषणों पर गौर करें, तो एक दिलचस्प पैटर्न सामने आता है. पीएम अपने भाषण की शुरुआत आम विषयों से करते हैं. फिर धीरे-धीरे अपनी सरकार की नीतियों पर आते हैं. उसके बाद अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हैं.

यह भी पढ़ें: लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर सकते हैं इन बड़े योजनाओं की घोषणा

फिर कोई बड़ी पॉलिसी का ऐलान करते हैं. आखिर में विपक्ष का नाम लिए बिना अपनी बात भी कह जाते हैं. फिर वापस आम विषयों पर आकर उनका भाषण खत्म होता है.

15 अगस्त 2014 : नरेंद्र मोदी ने बतौर प्रधानमंत्री 2014 में पहला भाषण दिया था. मोदी तब लोकसभा चुनाव में एनडीए को मिले प्रचंड जनादेश से उत्साह से भरे हुए थे. लाल किले की प्राचीर से उन्होंने कहा था, ‘मैं यहां प्रधानमंत्री के तौर पर नहीं आया हूं , बल्कि प्रधान सेवक के तौर पर आया हूं. मैं देश का प्रधानमंत्री नहीं हूं. देश का प्रधानसेवक हूं.' स्वच्छ भारत अभियान’ का ऐलान करते हुए पीएम मोदी ने कहा था, ‘मैं लाल किले से गंदगी और टॉयलेट के बारे में बात कर रहा हूं. मैं नहीं जानता कि लोग इसके लिए मेरी प्रशंसा करेंगे या नहीं लेकिन मैं एक गरीब परिवार से आया हूं … मैं सभी सांसदों ने अपील करता हूं कि वो अपने एक साल के फंड का इस्तेमाल टॉयलेट बनवाने में करें. हमें यह सुनिश्चित करना है कि हर सड़क, स्कूल, दफ्तर, मोहल्ला और पड़ोस में स्वच्छता हो, सफाई हो … ये शर्म की बात है कि महिलाओं को खुले में शौच जाने के लिए अंधेरे का इंतजार करना पड़ता है.’

यह भी पढ़ें: स्वतंत्रता दिवस: देश की आजादी में इन महिला स्वतंत्रता सेनानियों का भी था अहम योगदान, जानें 15 वीरांगनाओं के नाम

15 अगस्त 2015 : 2015 के भाषण में पीएम मोदी ने सांसदों से अपने संसदीय क्षेत्र के एक गांव को गोद लेने की अपील भी की थी. मोदी ने कहा था, ‘आज मैं संसद के नाम पर एक योजना का ऐलान करने जा रहा हूं. ये योजना गांवों के लिए हैं. इसका नाम है सांसद आदर्श ग्राम योजना … अगर हमें भारत का विकास करना है, तो सबसे पहले गांवों का विकास करना होगा … अगले पांच साल के आखिर तक हर सांसद कम से कम पांच गांवों को आदर्श गांव बनाएंगे. इस भाषण में ही पीएम मोदी ने जन धन योजना की शुरुआत की थी. उन्होंने कहा था, ‘आज हमारे अन्नदाता हमारे किसान कर्ज की वजह से आत्महत्या कर रहे हैं. हम गरीबों और किसानों को बैंक खाते का फायदा पहुंचाना चाहते हैं.

‘प्रधानमंत्री जन धन योजना ’ किसानों और गरीबों के लिए है. इसके तहत गरीबों को एक लाख तक का बीमा मिलेगा.’ पीएम मोदी ने इसी साल ‘मेक इन इंडिया’ और ‘डिजिटल इंडिया’ कैंपेन लॉन्च की थी. यहां ये जानना रोचक होगा कि मोदी के नाम ही लाल किले से सबसे लंबा भाषण देने का रिकॉर्ड जुड़ा है. उन्होंने 94 मिनट तक राष्ट्र को संबोधित किया था. अब ये देखना होगा कि प्रधानमंत्री इस बार कितने मिनट तक भाषण देंगे ? मोदी ने अपना भाषण गांवों के विकास , किसान और युवाओं पर फोकस रखा. उन्होंने ऐलान किया कि 2022 तक सभी गांवों तक बिजली पहुंच जाएगी.

अभी तक 18, 500 गांवों में बिजली नहीं हैं , यहां अगले 1000 दिनों के अंदर बिजली का बल्ब जलने लगेगा.’ इसी साल पीएम ने किसान मामलों के लिए अलग से किसान कल्याण मंत्रालय बनाने की घोषणा की. प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना भी इसी साल लॉन्च की गई. स्टार्ट-अप इंडिया , स्टैंड-अप इंडिया की शुरुआत भी साल 2015 में हुई. सालों से अटकी पड़ी वन रैंक वन पेंशन तो भी इसी साल से लागू किया गया.

यह भी पढ़ें: साफा पहन कर लाल किले से बोलते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ऐसे बदलता रहा रंग

15 अगस्त 2016 : पीएम मोदी ने तीसरी बार लाल किले से देश को संबोधित किया. इस बार उनका भाषण विदेश नीति और खासकर पड़ोसी देश पाकिस्तान पर फोकस रहा. पेशावर ब्लास्ट का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, ‘जब पेशावर के स्कूल में मासूमों की हत्या हुई , तो भारत का हर स्कूल रोया था. हर सांसद की आंखों में आंसू थे. ये हमारे मानवीय मूल्यों की अभिव्यक्ति थी लेकिन दूसरा पहलू भी देखिए. पाकिस्तान जो आतंकवाद का महिमामंडन करने से नहीं थकता’ इसी भाषण में पीएम मोदी ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की पहल की. साथ ही ग्रेड सी और डी लेवल की परीक्षाओं में इंटरव्यू हटा दिया.

15 अगस्त 2017 : 2017 पीएम मोदी ने इसबार न्यू इंडिया का कंसेप्ट देश के सामने रखा. उन्होंने कहा कि नया भारत गरीबों और किसानों का भारत होगा. इसके तहत 2022 तक किसानों की इनकम डबल करने की बात कही गई.

15 अगस्त 201 8 : 82 मिनट के अपने भाषण में यूपीए के मुकाबले अपने सरकार के कामकाज की गति की तुलना की. पीएम ने लाल किले की प्राचीर से बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि 2022 तक भारत मानव को अंतरिक्ष में भेजेगा. उन्होंने बेटियों को बड़ा तोहफा देते हुए महिलाओं के लिए सेना में स्थायी कमीशन की घोषणा की. 10 करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपये सालाना बीमा देने के लिए ' प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ' को 25 सितंबर से लागू करने का ऐलान किया.

यह भी पढ़ें: Independence Day 2019: देश की आजादी में इन महिलाओं के योगदान को नहीं भुला सकते


अपने भाषण से लोगों को ऐसे जोड़ते है मोदी
· पीएम मोदी अपने लाल क़िले की भाषण से पहले लोगों से सुझाव मांगते हैं. लोग mygov.in वेबसाइट पर सुझाव देने के अलावा नमो ऐप और ई-मेल से जरिए भी अपने सुझाव दे रहे हैं.
· 15 अगस्त 2014 के अपने भाषण में मोदी ने कहा मैं आपके बीच पीएम के रूप में नहीं , प्रधानसेवक के रूप में उपस्थित हूं. प्रधानमंत्री मोदी ने भावुक अंदाज में कहा , ' यह भारत का सामर्थ्य है कि छोटे शहर के गरीब परिवार के एक बालक को आज लालकिले की प्राचीर से भारत के तिरंगे झंडे के सामने सर झुकाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. यह भारत के संविधान के निर्माताओं की मेहनत है. ' देश में ऐसा माहौल बना हुआ है कि आज हर कोई अपना ही फायदा सोचता है. हमें ' मेरा क्या और मुझे क्या ' इस दायरे से बाहर आना होगा. मोदी ने कहा , हर चीज अपने लिए नहीं होती. कुछ देश के लिए भी कुछ होता है अपने अपने हित से उठकर देश हित के बारे में सोचना चाहिए.
· 15 अगस्त 2014 के अपने भाषण में मोदी ने देश में लगातार हो रही रेप की घटनाओं के बारे में कहा , ' देश के किसी भी हिस्से में जब रेप की घटनाएं होती हैं तो हमारा माथा कलंकित हो जाता है. समाज में बेटियों को लेकर दोहरे व्यवहार पर सवाल उठाते हुए मोदी ने कहा , मैं उन मां-बाप से पूछना चाहता हूं जो बेटी के घर से बाहर जाने पर तो सवाल करते हैं लेकिन बेटों से कभी सवाल नहीं करते हैं कि आप कहां जा रहे हैं कहां नहीं. कानून अपना काम करेगा लेकिन समाज के नाते हमें भी कुछ करना होगा. हम , देश के नागरिक और मां-बाप समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाएं. '

यह भी पढ़ें: 15 अगस्‍त 2019 : भारतीय क्रिकेट टीम ने स्‍वतंत्रता दिवस पर देश को दिया यह बड़ा तोहफा

· 15 अगस्त 2014 के अपने भाषण में मोदी ने कहा , ' सफाई करना मेरे लिए बहुत बड़ा काम है. क्या हमारा देश स्वच्छ नहीं हो सकता ? अगर 125 करोड़ लोग यह तय कर लगें कि मैं गंदगी नहीं करूंगा तो गंदगी खत्म हो जाएगी.

· 15 अगस्त 2015 के भाषण में मोदी ने टीम इंडिया का ज़िक्र कर लोगों को जोड़ने की कोशिश की , मोदी ने कहा सवा सौ करोड़ देशवासी जब टीम बन जाते हैं तो वो राष्ट्र को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाते हैं , राष्ट्र को बढ़ाते हैं , राष्ट्र को बनाते हैं और राष्ट्र को बचाते भी हैं. हम जो कुछ भी कर रहे हैं , जहां भी पहुँचने का प्रयास कर रहे हैं वह इस सवा सौ करोड़ की टीम इंडिया के कारण ही है. हम टीम इंडिया के आभारी हैं.

First Published: Aug 15, 2019 07:36:19 AM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो