BREAKING NEWS
  • AUS vs PAK: 143 रन पर ही आउट हो गए पाकिस्तान के 6 बल्लेबाज, स्टीव स्मिथ के साथ अग्नि परीक्षा बाकी- Read More »

जम्मू-कश्मीर के लिए आने वाले कुछ घंटे खासे अहम, कैबिनेट बैठक में बड़ा फैसला संभव

Nihar Ranjan Saxena  |   Updated On : August 05, 2019 07:39:27 AM
कई जिलों में धारा 144 लागू. सामान्य आवाजाही पर भी रोक.

कई जिलों में धारा 144 लागू. सामान्य आवाजाही पर भी रोक. (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह बुलाई कैबिनेट बैठक.
  •  जम्मू-कश्मीर के कई जिलों में धारा 144 लागू.
  •  स्कूल-कॉलेज बंद तो परीक्षाएं भी टलीं.

नई दिल्ली.:  

जम्मू-कश्मीर पर जारी ऊहापोह के लिहाज से आने वाले कुछ घंटे खासे अहम साबित हो सकते हैं. राज्य के कई जिलों में कर्फ्यू लागू करने और सुरक्षा बलों के भारी जमावड़े के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 9.30 बजे कैबिनेट मीटिंग बुलाई है. संभावना जताई जा रही है कि इस बैठक में जम्मू-कश्मीर पर कोई बड़ा फैसला हो सकता है. इस बीच राज्य के प्रमुख नेताओं को रविवार देर रात घर में नजरबंद करने के साथ ही इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. धारा 144 लागू करने के बीच यह भी संभावना जताई जा रही कि संसद में आज सरकार जम्मू-कश्मीर पर बयान दे सकती है. गौरतलब है कि सुरक्षा संबंधी बैठक बुधवार को होती है.

यह भी पढ़ेंः श्रीनगर में उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती नजरबंद, कश्मीर में धारा 144; स्कूल-कॉलेज बंदLive Updates

पी़डीपी और नेशनल कांफ्रेस के बयानों से डर का माहौल
गौरतलब है कि बीते कई दिनों से पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस के नेताओं क्रमशः महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला ने अपने-अपने बयानों से राज्य में एक किस्म के डर के माहौल को जन्म दिया है. शनिवार को राज्यपाल से मुलाकात के बाद नेशनल कांफ्रेस के नेता उमर अब्दुल्ला ने सरकार से संसद में बयान देने की मांग की थी, तो रविवार को महबूबा मुफ्ती ने राज्य के नेताओं की सर्वदलीय बैठक कर धारा 370 और 35-ए पर सरकार को चेतावनी दे डाली. हालांकि दोनों ही ने राज्य में शांति बनाए रखने की अपील की.

यह भी पढ़ेंः नजरबंद हुए उमर अब्दुल्ला के समर्थन में आए कांग्रेस नेता शशि थरूर, ट्वीट कर कही ये बात

अमित शाह ने की बैठक
एक तरफ जहां राज्य के नेता अमरनाथ यात्रा के अचानक रद्द किए जाने और सुरक्षा बलों के अतिरिक्त जमावड़े की अलग-अलग व्याख्या कर रहे थे, वहीं दिल्ली में भी जम्मू-कश्मीर को लेकर हलचल तेज रही. रविवार को गृह मंत्री अमित शाह ने एक उच्च स्तरीय बैठक की, जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल समेत केंद्रीय गृह सचिव और आईबी सरीखी संस्था के प्रमुख शामिल हुए थे. बाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूरे घटनाक्रम से अवगत कराया गया. इसके पहले अजित डोभाल अचानक ही गुप्त तौर पर जम्मू-कश्मीर के दौरे पर आए थे. इस दौरान उन्होंने राज्य के शीर्ष अधिकारियों से बैठक की थी.

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में सर्वदलीय बैठक के बाद फारुख अब्दुल्ला बोले- कोई कदम ऐसे न उठाएं...

40 कंपनी सीआरपीएफ भी तैनात
अजित डोभाल के गुप्त दौरे के बाद ही जम्मू-कश्मीर में हालात तेजी से बदलने शुरू हुए. एक तरफ अतिरिक्त सुरक्षा बलों, जिनकी संख्या लगभग 38 हजार बताई जा रही है, की तैनाती की गई. वहीं सरकार के साथ-साथ पर्यटकों के लिए भी एडवाइजरी जारी की गई. राज्य के महत्वपूर्ण जिलों में 40 कंपनी सीआरपीएफ तैनात की गई है. रविवार को ही यह खबरें भी सामने आईं कि गृह मंत्री अमित शाह भी जल्द ही कश्मीर दौरे पर जाने लगे हैं.

यह भी पढ़ेंः कश्मीर मसले पर पाकिस्तान की UNSC से अपील, शाह ने की सुरक्षा बैठक

धारा 144 लागू
रविवार रात कई थानों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. साथ ही धारा 144 लागू कर दी गई है. इस बार गौर करने वाली बात यह है कि राज्य प्रशासन ने 'नो मूवमेंट' भी लागू कर दिया है. यानी लोगों के लिए रोजमर्रा के कामों के लिए घर से निकलना भी मुश्किल हो गया है. यहां तक कि सोमवार से शुरू हो रही परीक्षाएं भी टाल दी गई है. स्कूल-कॉलेज बंद करने के साथ ही कर्फ्यू पास जारी करने से आमजन में कुछ बड़ा होने का डर और घर कर गया है. श्रीनगर में रविवार रात को धारा 144 लागू कर दी गई थी तो जम्मू में भी सुबह 6 बजे से प्रभावी हो गई है. कश्मीर के अलावा जम्मू, कठुआ, ऊधमपुर, रियासी, किश्तवाड़, रामबन, राजौरी, पुंछ में सुरक्षा बेहद कड़ी है. ऐसे में आने वाले कुछ घंटे राज्य के लिए खासकर कैबिनेट बैठक के मद्देनजर खासे अहम साबित हो सकते हैं.

First Published: Aug 05, 2019 07:39:27 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो