BREAKING NEWS
  • Horoscope, 20 November: जानिए कैसा रहेगा आज आपका दिन, पढ़िए 20 नवंबर का राशिफल- Read More »
  • हरियाणा सरकार करवाना चाहती है राम रहीम-हनीप्रीत मुलाकात, जानिए क्या है वजह- Read More »

हो जाएं सावधान, क्या आपके मोबाइल में भी अपने आप सेव हो गया UIDAI का 'कथित' हेल्पलाइन नंबर

IANS  |   Updated On : August 03, 2018 08:39:22 PM
यूआईडीएआई हेल्पलाइन नंबर फोन में आने से लोग हुए हैरान

यूआईडीएआई हेल्पलाइन नंबर फोन में आने से लोग हुए हैरान (Photo Credit : )

नई दिल्ली :  

देश में हजारों स्मार्टफोन यूजर्स शुक्रवार को हक्के-बक्के रह गए, जब उन्होंने पाया कि यूआईडीएआई का टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर उनके फोन बुक में खुद से सेव हो गया है। एक यूजर ने सेव्ड नंबर का स्क्रीन शॉट ट्वीट करते हुए लिखा,  'यह कोई मजाक नहीं है। मेरे फोन में भी ऐसा हुआ है। मैंने इस नंबर को सेव नहीं किया था। जल्दी से अपना फोन भी चेक करें, मुझे चिंता हो रही है।' एक दूसरे यूजर ने ट्वीट किया, 'ये कैसे हुआ कि यह नंबर मेरे फोन बुक में आ गया? अगर आप ऐसा कर सकते हैं तो आप गतिविधियों की निगरानी भी कर सकते हैं।'

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने हालांकि कहा कि कुछ निहित हितों के कारण 'जानबूझकर' जनता में भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है और प्राधिकरण ने स्पष्ट किया कि उसने किसी निर्माता या दूरसंचार सेवा प्रदाता से ऐसी सुविधा प्रदान करने के लिए नहीं कहा है।

एक फ्रांसीसी सुरक्षा विशेषज्ञ एलियट एल्डरसन ने यूआईडीएआई से ट्विटर पर पूछा, 'कई लोग, जिनके अलग-अलग सेवा प्रदाता है, चाहे उनके पास आधार कार्ड हो या ना हो या उन्होंने आधार एप इंस्टाल किया है या नहीं किया है। उन्होंने अपने फोन में नोटिस किया होगा कि बिना अपने कांटैक्ट लिस्ट में जोड़े आधार का हेल्पलाइन नंबर क्यों आ रहा है। क्या आप इसकी सफाई दे सकते हैं, क्यों?'

इस बहस में कई लोग शामिल हुए और उन्होंने अपने फोन में एकाएक आधार नंबर के आने के स्क्रीन शॉट्स को साझा करना शुरू कर दिया।

एक ट्विटर यूजर ने कहा, 'हां, यह सच है। यूआईडीएआई का हेल्पलाइन नंबर मेरे फोन बुक में जादू से आ गया। वे हमारा पीछा कर रहे हैं, जैसे एनएसए अमेरिका में करता है?'

वहीं, यूआईडीएआई का कहना है कि एंड्रायड फोन्स में जो आधार हेल्पलाइन नंबर दिख रहा है, वह पुराना है और वैध नहीं है।

आधिकारिक बयान में कहा गया, 'यूआईडीएआई का वैध टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1947 है जो पिछले दो सालों से ज्यादा समय से चल रहा है।'

इस पर मचे हंगामे के बाद अब सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन इंडिया का बयान सामने आया है। सीओएआई ने साफ किया है कि लोगों के फोनबुक में यूआईडीएआई का एक नंबर जो खुद सेव हो रहा है इससे टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों का कोई लेना-देना नहीं है।

किसी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी की ओर से यूजर्स के फोन बुक में नंबर सेव नहीं किया जा रहा है।

और पढ़ें: NRC पर रार, असम में एयरपोर्ट पर रोके जाने के बाद TMC का लोकसभा में हंगामा

First Published: Aug 03, 2018 05:39:07 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो