BREAKING NEWS
  • सावधान : हिटमैन रोहित शर्मा के निशाने पर आए आस्‍ट्रेलियाई स्‍टीव स्‍मिथ के रिकार्ड- Read More »
  • उत्‍तराखंड-अरुणाचल में राष्‍ट्रपति शासन को लेकर मोदी सरकार की हो चुकी है फजीहत- Read More »
  • Today History: आज ही के दिन WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की थी, जानें आज का इतिहास- Read More »

चारा घोटाला में नया खुलासा- भैंसों के सींगों पर खर्च किए गए 16 लाख रुपए

NEWS STATE BUREAU  |   Updated On : July 28, 2019 03:03:21 PM

(Photo Credit : )

New Delhi :  

चारा घोटाला मामला एक बार फिर से चर्चाओं में है. और इस बार की चर्चा का विषय है भैंसों के सीगों की मालिश का. बिहार सरकार ने हाल ही में खुलासा किया कि सिर्फ भैंसों के सींग की मालिश करने के लिए 16 लाख रुपये खर्च कर दिए गए. इस मालिश के लिए पांच सालों में (साल 1990-91 से 1995-96) कुल मिलाकर 16 लाख रुपये का सरसों का तेल खरीदा गया था. गौरतलब है कि इस मामले में लालू प्रसाद यादव जेल में हैं.

बिहार सरकार ने ये खुलासा विधानसभा में बिहार विनियोग अधिकाई व्यय विधेयक 2019 को पेश करने के दौरान किया. 1977-78 से लेकर 2015-16 के दौरान किए गए अधिकाई व्यय को विनियमित कराने के लिए यह विधेयक मानसून सत्र में विधानसभा में पेश किया गया.

यह भी पढ़ें- एक मुट्ठी मिट्टी के लिए भाई ने ली भाई की जान, पुलिस कर रही मामले जांच

खरीदा गया 49,950 लीटर सरसों का तेल

आंकड़ों पर गौर किया गया तो पता चला कि 1990-91 से 1995-96 तक कुल मिलाकर 16 लाख रुपये में 49,950 लीटर सरसों का तेल खरीदा गया था. होटवार दुग्ध आपूर्ति सह डेयरी फार्म के महाप्रबंधक डॉ जेनुअल भेंगराज ने वरिष्ठ अधिकारियों और शीर्ष नेताओं की मिलीभगत से तेल का नकली बिल तैयार किया.

चारा घोटाले से संबंधित ये नया खुलासा बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बुधवार को विधानसभा में बिहार विनियोग अधिकाई व्यय विधेयक 2019 को पेश करने के दौरान किया. उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा अत्यधिक व्यय या आवश्यकता को बजट के माध्यम से लिया जाता है लेकिन लालू प्रसाद यादव की अगुवाई वाली तत्कालीन सरकार ने इसका पालन नहीं किया और फर्जी बिलों के माध्यम से जनता के धन को लूटने के लिए बजटीय आवंटन से अधिक निकासी की गई.'

हालांकि, पशुपालन विभाग द्वारा खर्च किए गए 658 करोड़ रुपये की राशि पर विचार नहीं किया जा सकता है क्योंकि चारा घोटाले के ये मामले रांची और पटना में सीबीआई कोर्ट के पास लंबित हैं. पशुपालन विभाग की जांच से पता चलता है कि 1990 के बाद बजटीय आवंटन में वृद्धि के माध्यम से संगठित लूट को अंजाम दिया गया और जाली बिलों के माध्यम से अत्यधिक निकासी की गई.

बैलों को ले जाने के लिए हुआ स्कूटर का इस्तेमाल

चारा घोटाले पर बनी रिपोर्ट के अनुसार फाइलों में बैलों को रांची से घाघरा तक स्कूटर की सवारी करवाई गई थी. वहीं कैग रिकॉर्ड के अनुसार, रांची से झींकपानी तक चार बैल ले जाने के लिए एक कार (पंजीकरण संख्या BHV-5777) का इस्तेमाल भी किया गया था.

First Published: Jul 28, 2019 03:02:24 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो