BREAKING NEWS
  • झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Elections 2019) में कुल 18 रैलियों को संबोधित करेंगें गृहमंत्री अमित शाह- Read More »
  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने खोया आपा, प्रदर्शनकारियों पर भड़के, कही ये बड़ी बात - Read More »
  • आयकर ट्रिब्यूनल ने गांधी परिवार को दिया झटका, यंग इंडिया को चैरिटेबल ट्रस्ट बनाने की अर्जी खारिज- Read More »

NCP ने शिवसेना के सामने रखी शर्त, NDA से बाहर और मोदी सरकार से इस्तीफा दें मंत्री, तभी मिलेगा समर्थन

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : November 10, 2019 11:16:17 PM
नवाब मलिक

नवाब मलिक (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

मुंबई:  

महाराष्ट्र (maharashtra) में सियासी घमासान और तेज हो गई है. बीजेपी ने राज्यपाल (bhagat singh koshyari) से मुलाकात कर अपना पक्ष स्पष्ट कर दिया है. बीजेपी ने सरकार बनाने से साफ इंकार कर दिया है. क्योंकि उसके पास सरकार बनाने का बहुमत नहीं है. बीजेपी की घोषणा के बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने प्रदेश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना को सरकार बनाने का दावा पेश करने को कहा है. शिवसेना को सोमवार शाम साढ़े 7 बजे तक का वक्त दिया गया है. हालांकि अभी शिवसेना का जवाब नहीं आया है. इसी बीच एनसीपी ने शिवसेना को समर्थन देने के बजाय ये शर्त रख दी है.

यह भी पढ़ें- नवाब मलिक बोले- अगर शिवसेना सरकार बनाने का दावा पेश करती है तो हमारा अगला कदम ये होगा

एनसीपी (NCP) नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने कहा कि हमने 12 नवंबर को अपने सारे विधायकों (MLAs) के लिए एक बैठक बुलाई है. उन्होंने साफ कहा कि अगर शिवसेना (Shiv Sena) हमारा समर्थन चाहती है, तो उसे एनडीए (National Democratic Alliance) से नाता तोड़ना होगा और बीजेपी (BJP) से अपने रिश्ते खत्म करने होंगे. उन्होंने कहा कि शिवसेना को समर्थन के बदले केंद्रीय कैबिनेट (Union Cabinet) से अपने सभी मंत्रियों को इस्तीफा (resign) दिलवाना होगा.

यह भी पढ़ें- संजय राउत बोले- उद्धव ठाकरे ने साफ कहा था मुख्यमंत्री तो शिवसेना से ही बनेगा

बता दें कि महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को बहुमत हासिल हुआ है और दोनों में से कोई दल अकेले सरकार नहीं बना सकता. ऐसे में शिवसेना को सरकार गठन के लिए कांग्रेस-एनसीपी के समर्थन की जरूरत होगी. चुनाव में बीजेपी ने 105 और शिवसेना ने 56 सीटों पर जीत दर्ज की है. राज्य की 288 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 145 सीटों की जरूरत है. ऐसे में शिवसेना को न सिर्फ एनसीपी बल्कि कांग्रेस को भी सरकार बनाने के लिए साथ में लेना होगा.

यह भी पढ़ें-महाराष्ट्र : BJP कोर कमेटी की बैठक बेनतीजा, केंद्रीय नेतृत्व पर छोड़ा सरकार बनाने का फैसला

प्रदेश में बीजेपी-शिवसेना के बजाय बहुदलीय सरकार बनने को अग्रसर है. राज्य में मिली जुली सरकार बनेगी. कांग्रेस, एनसीपी (NCP) और शिवसेना की सरकार बनेगी. इस बीच एनसीपी नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अगर गवर्नर (Governor) शिवसेना (Shiv Sena) को सरकार बनाने का दावा करने के लिए आमंत्रित करते हैं, तो हम अपने अगले कदम के बारे में सोचेंगे. अभी हमें शिवसेना से कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. अंतिम निर्णय कांग्रेस (Congress) और राकांपा मिलकर लेगी.

यह भी पढ़ें-संजय निरुपम का बड़ा बयान, कांग्रेस-NCP की सरकार एक कल्पना, शिवसेना का साथ होगा घातक

वहीं सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हम हाल के घटनाक्रमों पर नजर रख रहे हैं. अब हम बैठक कर रहे हैं और हमारे सामने सभी विकल्पों पर चर्चा कर रहे हैं. हमने अभी कुछ तय नहीं किया है. संजय निरुपम ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में कांग्रेस-NCP की सरकार मात्र एक कल्पना है. महाराष्ट्र में कांग्रेस और NCP की सरकार नहीं बन सकती है. लेकिन अगर हम उस कल्पना को वास्तविकता में बदलना चाहते हैं, तो शिवसेना के समर्थन के बिना यह संभव नहीं होगा. यदि हम शिवसेना का समर्थन लेते हैं, तो यह कांग्रेस के लिए घातक साबित होगा. 

First Published: Nov 10, 2019 11:10:55 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो