BREAKING NEWS
  • UP: जमीन विवाद में खूनी संघर्ष, 3 लोगों की हत्या की गई- Read More »
  • Horoscope, 22 September: जानिए कैसा रहेगा आपका आज का दिन, पढ़िए 22 सितंबर का राशिफल- Read More »
  • Today History: आज ही के दिनगुरु नानक देव जी का करतारपुर में निधन हुआ, जानिए आज का इतिहास- Read More »

मुलायम सिंह यादव का बड़ा बयान, कहा दिल से चाहता हूं नरेंद्र मोदी बने दोबारा प्रधानमंत्री

News State Bureau  |   Updated On : February 14, 2019 08:56:42 AM

नई दिल्ली:  

लोकसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी के नेता मुलयम सिंह यादव ने  बड़ा बयान देते हुए नरेंद्र मोदी की ही दोबारा पीएम बनने की इच्छा जताई. बजट सत्र के दौरान मुलायम सिंह ने कहा, 'हमलोग तो इतने बहुमत में नहीं आ सकते प्रधानमंत्री जी हम चाहते हैं कि आप फिर से प्रधानमंत्री बनें' उन्होंने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा, 'पीएम को बधाई देना चाहता हूं कि पीएम ने सबको साथ लेकर चलने की कोशिश की है. मैं कहना चाहता हूं कि सारे सदस्य फिर से जीत कर आएं और आप दोबारा प्रधानमंत्री बनें'.

यह भी पढ़ें : पीएम नरेंद्र मोदी बोले - 30 साल बाद पहली बार बिना कांग्रेस गोत्र वाली पूर्ण बहुमत की सरकार बनी

गौरतलब है कि मुलायम सिंह यादव के इस बयान को उनके बेटे अखिलेश यादव के लिए ही बड़ा झटका माना जा रहा है क्योंकि दिल्ली में सत्ता के गलियारे तक का रास्ता बनाने वाले देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में उन्होंने मायावती की बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन किया है. चूंकि समाजवादी पार्टी के अंदर और पूरी यूपी में मुलायम सिंह यादव का अच्छा खासा प्रभाव माना जाता है ऐसे में इस बयान से अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को लोकसभा चुनाव में भारी नुकसान का सामना करन पड़ सकता है. 

मुलायम सिंह यादव के इस बयान के कई और राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं. 2017 में यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी के अंदर पिता (मुलायम सिंह) और पुत्र (अखिलेश यादव) के बीच पार्टी पर वर्चस्व को लेकर लड़ाई शुरू हो गई थी और यह लखनऊ होते हुए दिल्ली तक पहुंच गई थी. मुलायम सिंह यादव उस वक्त समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष बने रहना चाहते थे लेकिन अखिलेश यादव ने उन्हें पद से हटाकर खुद पार्टी अध्यक्ष बन गए. इसके बाद से ही बाप-बेटे में अनबन की खबरें मीडिया की सुर्थियों बनती रही.

यह भी पढ़ें : CAG Report : पीएम नरेंद्र मोदी ने मनमोहन सिंह सरकार की तुलना में 2.86% सस्‍ते में खरीदा राफेल लड़ाकू विमान

ऐसे में जब अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव में बीजेपी को पटखनी देने के लिए मायावती से गठबंधन का फैसला किया तो कभी राज्य में एक दूसरे की दुश्मन दोनों पार्टियों के गठबंधन का फैसला मुलायम सिंह यादव को रास नहीं आया था. 1995 में राजधानी लखनऊ में हुए गेस्ट हाउस कांड के बाद मायावती ने मुलायम सिंह यादव पर अपनी हत्या की साजिश रचने का बेहद गंभीर आरोप लगाया था.

पीएम मोदी LIVE: 30 साल बाद पहली बार बिना कांग्रेस गोत्र वाली पूर्ण बहुमत की सरकार बनी
First Published: Feb 13, 2019 04:06:28 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो