देशद्रोह का केस दर्ज होने पर कन्हैया कुमार ने केजरीवाल सरकार का किया धन्यवाद, कहा- सत्यमेव जयते

News State Bureau  |   Updated On : February 28, 2020 11:43:19 PM
Kanhaiya kumar

कन्हैया कुमार (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली:  

केजरीवाल सरकार (Kejariwal government) ने राजद्रोह के चार साल पुराने एक मामले में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और नौ अन्य लोगों पर मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को मंजूरी दे दी. इस मामले में आम आदमी पार्टी (AAP) ने मामले में कार्यवाही अवरुद्ध करने के बीजेपी के आरोपों को खारिज कर दिया. वहीं कन्हैया कुमार ने खुद पर केस चलने को लेकर कहा कि सत्य की हमेशा जीत होती है. उन्होंने दिल्ली सरकार को धन्यवाद भी किया.

कन्हैया कुमार (Kanhaiya kumar) ने ट्वीट करके कहा, 'दिल्ली सरकार को सेडिशन केस की परमिशन देने के लिए धन्यवाद. दिल्ली पुलिस और सरकारी वक़ीलों से आग्रह है कि इस केस को अब गंभीरता से लिया जाए, फॉस्ट ट्रैक कोर्ट में स्पीडी ट्रायल हो और TV वाली ‘आपकी अदालत’ की जगह क़ानून की अदालत में न्याय सुनिश्चित किया जाए. सत्यमेव जयते.'

वहीं, आप विधायक और प्रवक्ता राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने कहा कि दिल्ली सरकार के विधि विभाग ने उचित विचार-विमर्श के बाद गृह विभाग को इस मामले में अपनी राय दी है. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने 20 फरवरी को मंजूरी प्रदान की.

केजरीवाल सरकार ने मौजूदा राजनीतिक हालात के चलते दी मंजूरी

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने इस घटनाक्रम का स्वागत करते हुए कहा कि केजरीवाल सरकार ने मौजूदा राजनीतिक हालात के मद्देनजर शायद यह मंजूरी दी है. बीजेपी लगातार आरोप लगाती आ रही है कि आम आदमी पार्टी सरकार कन्हैया कुमार और अन्य पर अभियोजन की स्वीकृति नहीं देकर मामले में कार्यवाही को अवरुद्ध कर रही है.

हालांकि चड्ढा ने शुक्रवार को अपने बयान में कहा, ‘दिल्ली सरकार ने नीतिगत और सैद्धांतिक तौर पर ऐसे किसी मामले में हस्तक्षेप नहीं किया और ना करती है. हमारी सरकार ने पिछले पांच साल में किसी मामले में अभियोजन नहीं रोका है.’

इसे भी पढ़ें:महाराष्ट्र: मुस्लिम आरक्षण पर NCP और शिवसेना आमने-सामने, जानें मंत्रियों की क्या है राय

उन्होंने इसे पूरी तरह प्रक्रियागत विषय बताते हुए कहा कि प्रत्येक मामले के गुण-दोषों पर न्यायपालिका को ही फैसला करना चाहिए. चड्ढा ने कहा, ‘‘सरकार ऐसे मामलों के गुण-दोषों पर फैसला नहीं करतीं.’

'दिल्ली सरकार ने किसी मामले में अभियोजन को नहीं रोका'

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने किसी मामले में अभियोजन को नहीं रोका है जिनमें उसके खुद के विधायकों और पार्टी नेताओं से जुड़ा मामला भी है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 19 फरवरी को कहा था कि वह संबंधित विभाग से कन्हैया तथा अन्य पर राजद्रोह के मामले में मुकदमा चलाने की मंजूरी देने पर त्वरित फैसला लेने को कहेंगे.

और पढ़ें:पुलवामा हमले में NIA को बड़ी कामयाबी, हमलावर को पनाह देने वाला जैश आतंकी गिरफ्तार

पुलिस ने 2016 के इस मामले में कुमार और जेएनयू के पूर्व छात्रों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य समेत अन्य के खिलाफ 14 जनवरी को आरोपपत्र दाखिल किया था. पुलिस ने कहा था कि आरोपियों ने नौ फरवरी, 2016 को जेएनयू परिसर में एक कार्यक्रम के दौरान जुलूस निकाला और वहां कथित रूप से लगाये गये देश-विरोधी नारों का समर्थन किया था.

First Published: Feb 28, 2020 10:58:58 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो