BREAKING NEWS
  • करवाचौथ पर सेल्फी पोस्ट कीजिए, यहां फ्री में टॉयलेट बनवाएगा प्रशासन- Read More »
  • Karva Chauth 2019: सुहागिन महिलाएं आज मना रही है प्यार का त्यौहार, यहां जानें करवचौथ का महत्व- Read More »
  • सौरव गांगुली पर अमित शाह का बड़ा बयान, बोले कोई डील नहीं हुई- Read More »

देश की सबसे लंबी Electrified टनल सिर्फ 41 महीनों में तैयार, जानें इसकी खूबियां

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : September 17, 2019 06:12:24 PM
 देश की सबसे लंबी विद्युतकृत (Electrified ) सुरंग

देश की सबसे लंबी विद्युतकृत (Electrified ) सुरंग (Photo Credit : )

नई दिल्‍ली:  

भारतीय रेलवे ने एक रिकॉर्ड कायम किया है. देश की सबसे लंबी विद्युतकृत (Electrified ) सुरंग तैयार करने में उसे केवल 41 महीने लगे. ऑस्‍ट्रेलियाई तनकीक के आधार पर तैयार इस सुरंग के काफी चर्चे हैं. देश की सबसे लंबी electrified टनल आंध्र प्रदेश के चेरलोपल्ली और रापुरु रेलवे स्टेशन (Railway Stations) के बीच बनाई गई है.

रेलवे की कमाई का सबसे बड़ा जरिया उसका माल भाड़ा है. रेलवे को सबसे ज्‍यादा फायदा माल ढुलाई से होता है और इस क्षेत्र में भारतीय रेल (Indian Railways) को बड़ी कामयाबी इस सुरंग को तैयार करके हासिल हुई है. घोड़े की नाल (Horse Shoe) के आकार में बनी ये टनल, अपने डिज़ाइन और टेक्नोलॉजी की वजह से खूब चर्चा में है.

यह भी पढ़ेंः छठ पूजाः यूपी-बिहार के यात्रियों के लिए एक अच्‍छी और एक बुरी खबर, ट्रेनें फुल पर ऐसे मिलेगा कन्‍फर्म टिकट

इस मॉडल की तकनीक मजबूत पहाड़ों में इस्तेमाल की जाती है. इस तकनीक में कम पहाड़ों को काटने की जरूरत होती है, जिससे इसे बनाने में कम लागत आती है. चेरलोपल्ली और रापुरु स्टेशनों के बीच बनी इस टनल की लंबाई 6.6 km है और इसे बनाने में करीब 480 करोड़ रुपये की लागत आयी है.

6.6 km लंबे टनल की खूबियां

  • इस टनल में हर 10 मीटर की दूरी पर एक LED लाइट लगाई गई है.
  • टनल को 43 महीने में तैयार करना रेलवे के लिए एक बड़ी चुनौती रही.
  • ये नई इलेक्ट्रिफाइड टनल कृष्णपत्नम पोर्ट और इसके अंदर के क्षेत्रों को रेल से जोड़ती है.

यह भी पढ़ेंः वैष्णो देवी का दर्शन करने वालों के लिए खुशखबरी, दिल्ली से कटरा की यात्रा अब 8 घंटे में, जल्‍द दौड़ेगी वंदे भारत एक्‍स्‍प्रेस

  • टनल के बनने के बाद कृष्णपत्नम बंदरगाह और ओबुलाबरिपल्ली और कृष्णपत्नम पोर्ट के बीच दूरी करीब 70 km तक कम हो गयी.
  • दोनों जगहों के बीच मालगाड़ी पहुचने में जो 10 घंटे का वक़्त लगता था वो अब 5 घंटे का हो गया है.
First Published: Sep 17, 2019 06:12:24 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो