BREAKING NEWS
  • नागरिकता संशोधन बिल पर BJP को मिला शिवसेना का साथ, पक्ष में किया वोट- Read More »

अब पाकिस्तान को रात के अंधेरे में भी तबाह कर देगी पृथ्वी-2 मिसाइल, भारत ने किया सफल परीक्षण

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : December 03, 2019 11:24:29 PM
भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का रात्रि परीक्षण

भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का रात्रि परीक्षण (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

बालासोर:  

भारत (India) ने परमाणु क्षमता संपन्न स्वदेश निर्मित पृथ्वी दो मिसाइल का फिर से रात में सफल परीक्षण किया. ओडिशा के तट से यह परीक्षण सशस्त्र बलों के लिए उपयोगकर्ता परीक्षण के तहत किया गया है. सतह से सतह तक मार करने में सक्षम इस मिसाइल के परीक्षण के करीब एक पखवाड़े पहले 20 नवंबर को पृथ्वी-2 का रात में एक के बाद एक इसी टेस्ट रेंज से सफल परीक्षण किया गया था.

सूत्रों ने कहा,‘‘पृथ्वी-2 का आज का परीक्षण सफल रहा और परीक्षण सभी मानकों पर खरा उतरा. यह नियमित परीक्षण था.’’ पृथ्वी-2 की मारक क्षमता 350 किलोमीटर है. इसका परीक्षण चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज से शाम 7.50 बजे किया गया. सूत्रों ने बताया कि 500-1,000 किलोग्राम मुखास्त्र ले जाने में सक्षम पृथ्वी-2 दो मिसाइल तरल प्रणोदन दो इंजनों से संचालित है.

मिसाइल को उत्पादन स्टॉक से एकाएक चुना गया और सशस्त्र बलों के स्ट्रैटजिक फोर्स कमान (एसएफसी) ने संपूर्ण प्रक्षेपण गतिविधि को अंजाम दिया. यह परीक्षण डीआरडीओ के वैज्ञानिकों की निगरानी में किया गया.

इससे पहले भी भारत (India) ने सफलपूर्वक दो पृथ्वी बैलिस्टिक मिसाइलों (Prithvi ballistic missiles) को रात्रि परीक्षण किया है. भारत की ओर से यह सफल परीक्षण ओडिशा के तट से किया गया. स्ट्रैटेजिक फोर्सेस कमांड द्वारा 300 किमी दूर तक मार करने वाली इन मिसाइलों का परीक्षण किया गया. इस मिसाइल की जद में भी पाकिस्तान है. अगर अब पाकिस्तान कोई हरकत करता है तो उसे इस मिसाइल से भी आसानी ढेर किया जा सकता है.

बता दें कि परमाणु बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि- IV का सफल परीक्षण ओडिशा तट के नजदीक एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप पर एकीकृत परीक्षण रेंज के लॉन्चपैड नंबर- 4 से किया गया था. अग्नि- IV की ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह 4 हजार किलोमीटर तक की रेंज में दुश्मनों को ढेर कर सकती है. भारत की अदम्य शक्ति का नमूना अग्नि- IV पाकिस्तान में कहीं भी कहर बनकर टूट सकती है. इसके साथ ही यह चीन और यूरोप के कई इलाकों में भी भयानक हमले कर सकती है.

First Published: Dec 03, 2019 11:24:29 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो