तुर्की को भारत का करारा जवाब, कहा- हमारे अंदरूनी मामलों में दखल न दें राष्‍ट्रपति एर्दोगन

News State Bureau  |   Updated On : February 15, 2020 10:50:45 AM
तुर्की को भारत का करारा जवाब, कहा- हमारे अंदरूनी मामलों में दखल न दे

तुर्की को भारत का करारा जवाब, कहा- हमारे अंदरूनी मामलों में दखल न दे (Photo Credit : File Photo )

नई दिल्‍ली :  

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन द्वारा कश्मीर का मुद्दा उठाने और इस पर पाकिस्तान का समर्थन करने पर भारत सरकार ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. तुर्की के राष्‍ट्रपति के बयान का पुरजोर विरोध करते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा, 'हम तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन के कश्मीर बयान को खारिज करते हैं और तुर्की नेतृत्व से अनुरोध करते हैं कि वह भारत के आंतरिक मामले में दखल न दे.

यह भी पढ़ें : कांग्रेस अध्‍यक्ष पद के लिए सोनिया गांधी-राहुल गांधी ब्रिगेड आमने-सामने

इससे पहले पाकिस्तान पहुंचे तुर्की के राष्‍ट्रपति ने कहा था, 'कश्‍मीर का मामला संघर्ष या दमन से नहीं सुलझाया जा सकता, बल्कि न्याय और निष्पक्षता के आधार पर सुलझाना होगा. जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने को लेकर तुर्की के राष्‍ट्रपति ने कहा था, ''हमारे कश्मीरी भाइयों-बहनों ने दशकों तक परेशानियां झेली हैं और हाल में लिए गए एकपक्षीय कदमों से समस्याएं और बढ़ गई हैं.'

एर्दोगान ने कहा, कश्मीर में जुल्म हो रहा है तो वह चुप नहीं बैठेंगे. कोई जमीन पर खींची हुई सीमा इस्लाम मानने वालों को बांट नहीं सकती हैं. उन्होंने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को कश्मीर मुद्दे पर बिना शर्त समर्थन देने का वादा कर डाला. अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भी निशाना बनाते हुए तुर्की के राष्‍ट्रपति ने कहा, मध्य-पूर्व में अमेरिका की शांति योजना आक्रमणकारी नीयत है. जहां भी मुसलमान मारे जा रहे हैं वहां मुस्लिम देशों को एकजुट होने की जरूरत है.

यह भी पढ़ें : महाराष्‍ट्र के चाणक्‍य शरद पवार जानें क्‍यों उद्धव ठाकरे की सरकार पर बरस पड़े

आतंकवाद के पनाहगार पाकिस्‍तान को पीड़ित बताते हुए तुर्की के राष्‍ट्रपति ने कहा, फाइनेन्सियल एक्शन टास्क फोर्स ( FATF ) की बैठक में भी वे बिना शर्त पाकिस्तान का समर्थन करेंगे. तुर्की के राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को अपना दूसरा घर भी बता दिया. एर्दोगान ने कहा कि आपका दर्द मेरा दर्द है. हमारी दोस्ती प्यार और सम्मान पर आधारित है. पाकिस्तान तरक्की की तरफ है और ये कुछ दिनों में नहीं हो सकता. इसमें वक्त लगेगा और तुर्की इसमें सहयोग करता रहेगा.

भारत ने कहा, हम तुर्की नेतृत्व से अनुरोध करते हैं कि वह भारत के लिए पाकिस्तान परस्‍त आतंकवाद सहित अन्‍य बातों को लेकर अपनी समझ विकसित करे.

First Published: Feb 15, 2020 10:38:01 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो