'2024 से पहले एक और पुलवामा होगा', कांग्रेस नेता उदित राज के विवादित बोल

News State Bureau  |   Updated On : February 15, 2020 12:19:17 PM
'सवर्णों की देशभक्‍ति की कीमत हाशिए के समुदायों को चुकानी पड़ती है'

'सवर्णों की देशभक्‍ति की कीमत हाशिए के समुदायों को चुकानी पड़ती है' (Photo Credit : File Photo )

नई दिल्‍ली :  

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) में बीजेपी से टिकट न मिलने पर कांग्रेस में आए डा. उदित राज (Dr. Udit Raj) ने पुलवामा हमले (Pulwama Terror Attack) को लेकर विवादित ट्वीट किया है. उदित राज ने टि्वटर पर लिखा, 'सोशल मीडिया पर राष्ट्रवाद का प्रचार करने वाले लोग अकसर उच्च जाति के होते हैं और जिन सैनिकों ने मुख्य रूप से हमले में अपनी जान गंवाई, वे अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/अतिरिक्‍त पिछड़ा वर्ग समुदायों से आते हैं. हाशिए पर खड़े समुदायों को सत्ताधारी सवर्णों की देशभक्ति की कीमत चुकानी पड़ती है.' एक अन्‍य ट्वीट में उदित राज ने कहा, 'जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं. इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है.' उदित राज ने यह भी कहा, '2024 के लोकसभा चुनाव से पहले एक और पुलवामा होगा.'

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, आज जब हम में हमारे 40 CRPF शहीदों को याद करते हैं, तो हमें पूछना चाहिए कि हमले से सबसे ज्यादा किसे फायदा हुआ? हमले में जांच का परिणाम क्या है? बीजेपी सरकार में से किसने अभी तक हमले की अनुमति देने वाली सुरक्षा चूक के लिए जवाबदेह ठहराया है?

यह भी पढ़ें : तमिलनाडु में 400 दलितों ने इस्‍लाम कबूला, वजह जानकर आप दंग रह जाएंगे

संबित पात्रा ने इस पर निशाना साधते हुए कहा है कि पुलवामा का हमला जितना खतरनाक था उतना ही खतरनाक आपका बयान है. उन्होंने राहुल गांधी से पूछा क्या आप फायदे से ऊपर कुछ सोच सकते हैं? जाहिर तौर पर नहीं, क्योंकि यही गांधी परिवार है जो फायदे से ऊपर कुछ सोच ही नहीं सकता. संबित पात्रा ने कहा, इनकी आत्मा भी भ्रष्ट हो चुकी है.

यह भी पढ़ें : तुर्की को भारत का करारा जवाब, कहा- हमारे अंदरूनी मामलों में दखल न दें राष्‍ट्रपति एर्दोगन

सीपीआई (एम) नेता मोहम्मद सलीम ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘हमें जवानों के लिए मेमोरियल नहीं चाहिए. बल्कि हम ये जानना चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से 80 किलो RDX कैसे भारत में आ गया, वो भी उस जगह जहां पर सेना की इतनी बड़ी तादाद है.

First Published: Feb 15, 2020 11:42:59 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो