BREAKING NEWS
  • भारत बांग्‍लादेश सीरीज का आखिरी टेस्‍ट देखने आएंगी दुनिया की ये मशहूर हस्‍तियां, सौरव गांगुली ने कही बड़ी बातें- Read More »
  • आजादी मार्च के बाद राष्ट्रव्यापी हड़ताल के आह्वान से बढ़ी इमरान खान की मुसीबत, कैसे निपटेंगे इससे- Read More »

CBI विवाद: राकेश अस्थाना ने अपने खिलाफ फैसले में सुधार को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट से किया अपील, सुनवाई आज

News State Bureau  |   Updated On : January 16, 2019 11:57:21 PM
सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना (फाइल फोटो)

सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने अपने खिलाफ आए फैसले में सुधार की मांग करते हुए दिल्ली हाई कोर्ट में अपील की है. अस्थाना के आवेदन पर हाई कोर्ट गुरुवार को सुनवाई करेगा. पिछले सप्ताह शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने राकेश अस्थाना के खिलाफ कथित घूस मामले में सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर को रद्द करने की याचिका खारिज कर दी थी. अस्थाना ने कोर्ट से सीबीआई द्वारा दर्ज प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी.

दिल्ली हाई कोर्ट के जस्टिस नजमी वजीरी की एकल पीठ ने अस्थाना को अंतरिम संरक्षण देने से इंकार कर दिया था और सीबीआई को निर्देश दिया था कि वह अस्थाना के खिलाफ 10 सप्ताह में जांच पूरी करे.

जस्टिस वजीरी ने अस्थाना और निलंबित पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) देवेंद्र कुमार की याचिका पर फैसला 20 दिसंबर को सुरक्षित कर लिया था, जिसमें दोनों ने अपने खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने की मांग की थी. अस्थाना ने कहा था कि उनके खिलाफ दर्ज मामले अवैध और दुर्भावनापूर्ण हैं.

अपदस्थ सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के वकील ने अस्थाना के खिलाफ एजेंसी की कार्रवाई को जायज ठहराया था और कहा था कि प्राथमिकी मौजूदा कानूनों के अनुरूप और उचित प्रक्रिया के तहत दर्ज की गई थी.

और पढ़ें : आलोक वर्मा के बाद CBI के नए निदेशक के लिए चयन समिति की बैठक 24 जनवरी को

सीबीआई के अनुसार, कुमार ने मांस कारोबारी मोईन कुरैशी मामले के एक गवाह, सतीश सना बाबू के बयान के साथ छेड़छाड़ की थी, जिसमें उन्होंने दिखाया था कि सना ने अपना बयान दिल्ली में 26 सितंबर, 2018 को दर्ज कराया था.

सीबीआई ने अस्थाना, कुमार और दो अन्य के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की थी, जिसमें आरोप था कि उन्होंने दिसंबर 2017 से अक्टूबर 2018 के बीच कम से कम पांच बार रिश्वत ली थी.

और पढ़ें : विवाद के बीच राष्ट्रपति ने जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस दिनेश माहेश्वरी को SC का जज नियुक्त किया

1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी अस्थाना पर आरोप है कि उन्होंने एक कारोबारी से 2 करोड़ रुपये लिए थे. इस कारोबारी के खिलाफ कुरैशी मामले में जांच चल रही थी. मामले की जांच अस्थाना के नेतृत्व वाला एक विशेष जांच दल (एसआईटी) कर रहा था.

First Published: Jan 16, 2019 10:18:04 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो