CAA पर गलत जानकारियों का प्रसार किया जा रहा, भैयाजी जोशी ने कहा डरे नहीं मुसलमान

News State  |   Updated On : January 26, 2020 01:00:53 PM
CAA पर गलत जानकारियों का प्रसार किया जा रहा, भैयाजी जोशी ने कहा डरे नहीं मुसलमान

सीएए पर अब भैयाजी जोशी ने मुसलमानों को किया आगाह. (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  भारत में मुसलमानों का कभी भी उत्पीड़न नहीं हुआ.
  •  CAA पर गलत जानकारियों का प्रसार किया जा रहा.
  •  अलग-अलग समूह इसके खिलाफ माहौल तैयार कर रहे.

नागपुर:  

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के महासचिव भैयाजी जोशी (Bhaiyaji Joshi) ने रविवार को कहा कि भारत में मुसलमानों का कभी भी उत्पीड़न नहीं हुआ. उन्होंने आरोप लगाया कि देश में संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ गलत जानकारियों का प्रसार किया जा रहा है. अगर सीएए के पीछे की भावना को सही तरीके से समझा जाता तो इसे किसी के विरोध का सामना नहीं करना पड़ता. वह 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर संघ मुख्यालय में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि भारत के पास अपना संविधान है और वह उसके अनुसार चलता है.

यह भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांधा केसरिया रंग का 'बंधेज साफा', परंपरा रखी बरकरार

अब तक नहीं हुआ मुस्लिमों का उत्पीड़न
जोशी ने सीएए को लेकर पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में कहा, 'अब तक, इस्लाम के अनुयायियों को इस देश में किसी भी तरह के उत्पीड़न का सामना नहीं करना पड़ा है. अगर वहां से कोई भी नागरिक आता है चाहे वह मुस्लिम ही क्यों न हो, वह भी पहले से बने कानून के हिसाब से नागरिकता हासिल कर सकता है. इसमें समस्या क्या है?' उन्होंने कहा, 'बिना गंभीरता से विचार किए हुए गलत सूचनाओं का प्रसार किया जा रहा है. अगर सीएए के पीछे की भावना को सही तरीके से समझा जाता तो इसे किसी के विरोध का सामना नहीं करना पड़ता.' श्रीलंका के लोगों को इसमें शामिल नहीं किए जाने को लेकर पूछे गए एक सवाल में उन्होंने कहा कि इन्हें पहले अनुमति दी गई थी और वहां अब धार्मिक आधार पर उत्पीड़न नहीं है.

यह भी पढ़ेंः Republic Day 2020: 71वें गणतंत्र दिवस परेड की 10 प्रमुख बातें

गलत जानकारी से बचें भारतीय मुसलमान
जोशी ने कहा, 'सरकार ने बार-बार इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण दिया है लेकिन अलग-अलग समूह अब भी इसके खिलाफ माहौल तैयार कर रहे हैं. संसद ने इस कानून को पारित किया है और सब को इसे स्वीकार्य करना चाहिए.' उन्होंने कहा कि पूर्व में भी सरकारों ने नागरिकता कानून में संशोधन किया है. जोशी ने लोगों से गलत जानकारियों से बचने की अपील की. संघ के महासचिव ने कहा, 'यह देश के लिए अनिवार्य है कि कोई भी विदेशी यहां न रहे. यह अधिनियम सिर्फ पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के हिंदुओं को ही नहीं बल्कि जैन, सिख, बौद्ध और ईसाईयों को भी नागरिक बनने की अनुमति देता है. इसलिए अशांति फैलाना अच्छा नहीं है.'

First Published: Jan 26, 2020 01:00:53 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो