Delhi Violence: दिल्ली में हिंसा के बाद की तस्वीर भयावह, इस इलाके में मिली 2 और लाशें

News State Bureau  |   Updated On : February 27, 2020 10:12:10 AM
Delhi Violence: दिल्ली में हिंसा के बाद की तस्वीर भयावह, इस इलाके में मिली 2 और लाशें

दिल वालों की दिल्ली में दंगे, नाले में मिली 2 और लाशें (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्‍ली :  

दिल वालों की दिल्ली (Delhi) में पिछले कुछ दिनों से सिर्फ प्रदर्शन और दंगे जैसे हालात बने हुए हैं. दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) में अब तक कुल 32 लोगों ने अपनी जान गवां दी है. नोएडा (Noida) के आस-पास और दिल्ली (Delhi NCR) के कई इलाकों जिनमें सीलमपुर (Seelampur), जाफराबाद (Jaffarabad), बाबरपुर (Babarpur) और मौजपुर (Maujpur) में कई हिंसक प्रदर्शन किए हैं. दिल्ली हिंसा में अब तक कांस्टेबल (Constable) और आईबी ऑफिसर (IB Officer Death) की मौत सहित कुल 32 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.
आज भी मौजपुर इलाके में सुरक्षाबल मार्च करेंगे जबकि सीलमपुर, जाफराबाद, बाबरपुर में एहतियातन भारी सुरक्षाबल तैनात किया है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज भी दिल्ली में हालात काफी तनाव ग्रस्त हैं जिसको देखते हुए सीबीएसई बोर्ड ने नार्थ ईस्ट दिल्ली में करीब 80 परीक्षा केंद्रों की परीक्षाएं टाल दी हैं.

यह भी पढ़ें: CBSE Board: सीबीएसई बोर्ड ने आज भी नार्थ ईस्ट दिल्ली में परीक्षाएं की Postpone

आज भी दि्ल्ली के गोकुलपुरी इलाके में दो लाशें मिली हैं. हालांकि फिलहाल अभी इन लाशों को निकाला नहीं गया है. 

गृहमंत्री पर उठे सवाल
दिल्‍ली में हिंसा (Delhi Violence) को लेकर गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर सवाल उठ रहे हैं. कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कार्यसमिति की बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस कर दिल्‍ली दंगे के लिए सीधे-सीधे गृह मंत्री अमित शाह को जिम्‍मेदार ठहराया. सोनिया गांधी ने सवाल उठाए कि रविवार से अमित शाह कहां थे, वे क्‍या कर रहे थे?

यह भी पढ़ें: 'बात बिहार की' अभियान को लेकर चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के खिलाफ FIR दर्ज

और दंगों को रोकने के लिए उन्‍होंने क्‍या किया? साथ ही उन्‍होंने अमित शाह के इस्‍तीफे की मांग भी कर दी. ऐसे में यह जानना लाजिमी हो जाता है कि दिल्‍ली हिंसा को रोकने के लिए गृह मंत्री ने क्‍या किया?

Disclaimer : News State किसी भी तरह की हिंसा का समर्थन नहीं करता है. हिंसा का रास्‍ता किसी भी सभ्‍य समाज के लिए बहुत खतरनाक होता है. हिंसा का रास्‍ता अख्‍तियार करके कोई भी समाज अपने उद्देश्‍यों को प्राप्‍त नहीं कर सकता. हमारी कोशिश आप तक सिर्फ और सिर्फ सूचनाएं पहुंचाना है. इसमें किसी भी तरह के राग, द्वेष की कोई भावना नहीं है. देश-दुनिया की खबरों के लिए आप क्‍लिक करें www.newsstate.com

First Published: Feb 27, 2020 09:53:47 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो