एम्स निदेशक का खुलासा, उपवास तोड़ना चाहते थे स्वामी सानंद पर तोड़ने नहीं दिया गया

वैज्ञानिक से संत बने स्वामी ज्ञान स्वरूप सानन्द उर्फ जीडी अग्रवाल की मौत की एक बड़ी वजह सामने आई है. ऋषिकेश एम्स के निदेशक रविकान्त ने मातृ सदन पर स्वामी सानंद को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है.

News State Bureau  |   Updated On : October 12, 2018 01:55 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:  

वैज्ञानिक से संत बने स्वामी ज्ञान स्वरूप सानन्द उर्फ जीडी अग्रवाल की मौत की एक बड़ी वजह सामने आई है. ऋषिकेश एम्स के निदेशक रविकान्त ने मातृ सदन पर स्वामी सानंद को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है.

एम्स निदेशक रविकान्त ने बताया कि इलाज के दौरान स्वामी सानंद तो उपवास तोड़ना चाहते थे, लेकिन उनके परिवार से बाहर के लोगों ने उन्हें उपवास नहीं तोड़ने दिया. उन्होंने एम्स निदेशक ने स्वामी सानंद की मौत पर मातृ सदन के सन्देह पर कहा कि अगर आप हम पर शक करेंगे तो आपको अपने माता-पिता पर भी सन्देह करना पड़ेगा.

स्वामी सांनद को हाई ब्लड प्रेशर के साथ ही एंटीक वॉल के डिसऑर्डर की प्रॉब्लम थी. उन्हें हर्निया भी था. बुधवार की शाम को जब वह एम्स में भर्ती हुए थे तो उनके यूरिन में कीटोन थे. इन सभी बीमारियों का एक साथ होने के कारण उन्हें दिल का दौरा पड़ा.

गंगा सफाई के लिए 112 दिनों से अनशन कर रहे 'स्वामी सानंद' का निधन, कांग्रेस ने मोदी सरकार पर उठाये सवाल

इससे पहले मातृ सदन आश्रम के अध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने आरोप लगाया था कि सानंद ने गुरुवार को ही एक केंद्रीय मंत्री के इशारे पर अपनी हत्या किए जाने की उनसे आशंका जताई थी. शिवानंद ने कहा कि उन्होंने सानंद को ऋषिकेश एम्स के बजाय दिल्ली एम्स में भर्ती किए जाने की मांग की थी क्योंकि स्वामी सानंद ने एम्स को पिछले दिनों रिसर्च के लिए अपनी बॉडी दान करने की घोषणा कर दी थी.

First Published: Friday, October 12, 2018 12:58 PM

RELATED TAG: Swami Sanand, Scientist, Aiims Rishikesh, Director, Gd Agrawal, Suicide,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो