मुसलमानों के हिस्से की जमीन राम मंदिर के लिए दान की जाए: शिया वक्फ बोर्ड

शिया वक़्फ़ बोर्ड ने कोर्ट में कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन पर मुस्लिम हिस्से का वह हक़दार है क्योंकि बाबरी मस्ज़िद मीर बाकी ने बनाई थी, जो खुद शिया था।

News State Bureau   |   Updated On : July 13, 2018 04:42 PM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

अयोध्या भूमि विवाद को लेकर केंद्रीय शिया वक्फ बोर्ड ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि वास्तव में विवादित भूमि में मुसलमानों के शेयर का असल दावेदार वही हैं क्योंकि बाबरी मस्जिद मीर बाकी ने बनवाई थी, जो एक शिया थे।

शिया वक्फ बोर्ड ने कोर्ट में कहा कि वह इलाहाबाद हाई कोर्ट द्वारा मुसलमानों को दी गई एक तिहाई भूमि दान करना चाहते हैं जिससे कि वहां राम मंदिर बनाया जा सके।

अयोध्या भूमि विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई अब 20 जुलाई को होगी।

शिया बोर्ड ने कहा, 'देश में एकता, शांति और सद्भावना के लिए वो विवादित जमीन के मुस्लिम वाले हिस्से को राम मंदिर निर्माण के लिए हिंदुओं को देने के लिए तैयार है।'

शिया बोर्ड ने कहा, 'बाबरी मस्जिद का संरक्षक शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड है। कोई अन्य भारत में मुस्लिमों का प्रतिनिधि नहीं है।'

वही दूसरी ओर सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड और मुस्लिम पक्षकारों की ओर से पेश वकील राजीव धवन ने दलील दी कि बर्मा में गौतम बुद्ध की मूर्ति को मुस्लिम तालिबान ने ख़त्म किया, वही बाबरी मस्ज़िद को 'हिन्दू तालिबान' ने खत्म किया।

राजीव धवन ने कहा, 'इस मामले में शिया वक्फ बोर्ड के बोलने का कोई मतलब नहीं है। जिस तरह तालिबान ने बामियान को ढहाया था, उसी तरह हिंदू तालिबान ने बाबरी मस्जिद को ढहाया था।'

बता दें कि राम मंदिर भूमि विवाद पर जारी सुनवाई में अब तक सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्षों की दलीलें सुनी गई। मुस्लिम पक्ष से पहले चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस ए नजीर की विशेष पीठ ने 17 मई को हिंदू संगठनों की तरफ से पेश दलीलें सुनी थीं।

और पढ़ें: देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल की कीमत 84 रुपये के पार

 
First Published: Friday, July 13, 2018 03:12 PM

RELATED TAG: Shia Waqf Board, Ram Temple, Ayodhya Case,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो