BREAKING NEWS
  • फूलपुर से चुनावी मैदान में उतर सकती हैं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, नेहरू की विरासत वापस लाने की चुनौती, पढ़ें पूरी खबर- Read More »
  • महबूबा मुफ्ती ने कहा- अनपढ़ लोग ही युद्ध की बात कर सकते हैं, इमरान खान को दें एक मौका- Read More »
  • पुलवामा आतंकी हमला : NIA ने मामले की जांच के लिए दोबारा केस दर्ज किया- Read More »

राजस्थान: विधानसभा चुनाव से पहले सीएम वसुंधरा राजे चल सकती है बड़ा दांव, 80 लाख वोट होंगे प्रभावित, यह है पूरा प्लान

News State Bureau  | Reported By : Lal Singh |   Updated On : August 21, 2018 02:39 PM
राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे

राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे

नई दिल्ली:  

राजस्थान में विधानसभा चुनावों से पहले वसुंधरा राजे सरकार आरक्षण को लेकर बड़ा दांव चल सकती है। पार्टी के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार राजे सरकार विधानसभा चुनावों से पहले दिव्यांगो को चुनावों में आरक्षण देने का विचार कर रही है। यदि चुनावों से पहले सरकार आरक्षण देती है तो इससे राज्य में रहने वाले करीब 80 लाख दिव्यांग जनों के वोट सीधे तौर पर प्रभावित होंगे।

दिव्यांगों के लिए पंचायती और निकाय चुनावों में 4 प्रतिशत के आरक्षण से संबंधित फाइल मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे तक पहुंच चुकी है। इस मुद्दे पर जल्द ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे दिव्यांगों के हितों को ध्यान में रखते हुए बडा फैसला ले सकती है।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अरूण चतुर्वेदी ने इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि जल्द ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे दिव्यांगों के हितों को ध्यान में रखते हुए बडा फैसला ले सकती है।

पंचायतीराज और निकाय चुनावों में 4 प्रतिशत आरक्षण के मसले को लेकर मंत्री अरूण चतुर्वेदी ने सहमति जताई है,उनका कहना है कि सरकार दिव्यांगों को लेकर पूरी तरह से गंभीर है और इस संबंध में फाइल मुख्यमंत्री तक भेजी जा चुकी है।

और पढ़ें: अगर राज्यसभा में होता बहुमत तो शुरू हो चुका होता राम मंदिर का निर्माण: केशव प्रसाद मौर्य 

उन्होंने कहा कि सीएम स्तर पर ही इस संबंध में फैसला होगा। आरक्षण के मसले पर कानून संबंधी निर्णय लेकर सरकार जल्द इस पर कोई फैसला लेगी।

बता दें कि राजस्थान में लगातार दिव्यांगों के लिए चुनाव में आरक्षण की मांग उठती रही है, गहलोत सरकार में भी उन्होंने सरकार के समक्ष इस मुद्दे को उठाया था। हालांकि इस मामले में ज्यादा बात बनी नहीं और मुद्दा फाइलों में अटक कर रह गया। लेकिन इस बार अधिकारियों,मंत्रियों और मुख्यमंत्री तक फाइल जिस तेजी से दौड़ रही है उससे तो यही लग रहा है कि शायद इस बार वसुंधरा सरकार विधानसभा चुनावों से पहले दिव्यांगों को आरक्षण दे सकती है।

गौरतलब है कि वसुंधरा सरकार का ये कदम उन्हे एक बार फिर से सत्ता में आने का मौका दे सकता है। 2011 की जनगणना के अनुसार राजस्थान में करीब 16 लाख दिव्यांग रहते है। परिवार में एक दिव्यांग होने से उसके माता पिता और भाई बहन समेत कम से कम 4 लोग प्रभावित होते है। इस तरह प्रभावित लोगों का आंकड़ा करीब 80 लाख हो जाता है। 

इससे पहले विकलांग अधिकार महासंघ लगातार 9 सालों से आरक्षण का मुद्दा उठाता आ रहा है, लेकिन इससे पहले फाइले इतनी तेजी से आगे नहीं बढी। अब मामला मुख्यमंत्री तक पहुंच चुका है जिसमें जल्द ही कोई बड़ा फैसला होने के आासार है।

और पढ़ें: 2019 लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी से टक्कर लेने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी टीम में शामिल किए नए चेहरे 

इस मुद्दे पर विकलांग अधिकार संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमन्त गोयल का कहना है कि दिव्यांगों को चुनावों में आरक्षण मिलने से उन्हें मजबूती मिलेगी।

उन्होंने कहा कि राजस्थान में दिव्यांग आज भी पिछड़ा हुआ है, उसे सबंध प्रदान करने के लिए अग्रिम पंक्ति में लाने के लिए दिव्यांगों को पंचायत और निकाय चुनावों में आरक्षण का लाभ मिलना ही चाहिए।

First Published: Tuesday, August 21, 2018 02:25 PM

RELATED TAG: Divyang, Reservation, Congress, Rajasthan Elections,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो