महिला अधिकारियों को रक्षा बलों में स्थायी कमीशन मिलेगा : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 अगस्त के अवसर पर कहा कि भारतीय रक्षा सेवा में तैनात महिला अधिकारियों के पास अब शार्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) के जरिए स्थायी कमीशन लेने का विकल्प होगा।

  |   Updated On : August 15, 2018 04:19 PM
महिला अधिकारियों को रक्षा बलों में स्थायी कमीशन मिलेगा

महिला अधिकारियों को रक्षा बलों में स्थायी कमीशन मिलेगा

नई दिल्ली:  

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 अगस्त के अवसर पर कहा कि भारतीय रक्षा सेवा में तैनात महिला अधिकारियों के पास अब शार्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) के जरिए स्थायी कमीशन लेने का विकल्प होगा।
प्रधानमंत्री ने हालांकि इस बारे में नहीं बताया कि क्या सरकार ने स्थायी कमीशन महिला अधिकारियों के लिए रक्षा बलों की सभी शाखाओं को खोलने का निर्णय लिया है। इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का इंतजार है।

पीएम मोदी का बेटियों को 'गुड न्यूज़'
मोदी ने अपने स्वतंत्रता दिवस संबोधन के मौके पर लालकिले के प्राचीर से कहा, 'मैं मेरी बहादुर बेटियों को एक अच्छा समाचार देना चाहता हूं। सशस्त्र सेना में शामिल महिला अधिकारी शार्ट सर्विस कमीशन के जरिए पारदर्शी चयन प्रक्रिया के माध्यम से स्थायी कमीशन पा सकेंगी।'

महिला अधिकारियों को पुरुष के बराबर अवसर
उन्होंने कहा कि इस पहल से महिला अधिकारियों को भी उनके पुरुष समकक्षों के बराबर समान अवसर मिल सकेगा।
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने भी प्रधानमंत्री की इस घोषणा के बाद ट्विट कर उनके इस निर्णय की सराहना की।

महिला सैन्य अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने पर विचार
प्रधानमंत्री ने यह घोषणा सर्वोच्च न्यायालय में यह कहने के चार महीने बाद की है कि सरकार शार्ट सर्विस कमीशन के जरिए चुनी गई महिला सैन्य अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के बारे में विचार कर रही है।

और पढ़ें : स्वतंत्रता दिवस समारोह में बोले CJI, संस्थाओं को तोड़ना आसान लेकिन चलाना मुश्किल

महिला अधिकारी इतने साल तक काम कर सकती है
शार्ट सर्विस कमीशन के अनुसार, एक महिला अधिकारी 10-14 वर्ष तक ही काम कर सकती है। महिला अधिकारियों को सेना सेवा कॉर्प्स, युद्ध सामग्री(आर्डनेंस), शिक्षा कॉर्प्स, न्यायाधीश, महाधिवक्ता, अभियंता, सिगनल्स, खुफिया और इलेक्ट्रिकल व मैकेनिकल इंजीनियरिंग शाखाओं में शामिल होने की अनुमति मिलती है।

लेकिन अभी महिलाओं को लड़ाकू भूमिका जैसे पैदल सेना, मशीनीकृत पैदल सेना, विमान और तोपखाने में शामिल होने का विकल्प नहीं है।

महिलाओं के लिए समान लड़ाकू भूमिका के दरवाजे खुले
भारतीय वायुसेना और भारतीय नौसेना ने महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन में शामिल होने की अनुमति दी है, यहां तक कि दोनों ने महिलाओं के लिए समान लड़ाकू भूमिका के दरवाजे भी खोले हैं।

सेना में लगभग 1,561 महिला अधिकारी
सेना में लगभग 1,561 महिला अधिकारी हैं। वायुसेना में 1,594 और नौसेना में 644 महिला अधिकारी हैं। महिलाओं को सेना की तीनों इकाइयों में सैनिक(ट्रूप) के तौर पर नहीं, बल्कि केवल अधिकारी के तौर पर शामिल किया जाता है।

और पढ़ें : पीएम मोदी का कांग्रेस पर हमला, कहा- पुरानी रफ्तार से चलते तो कई काम पूरा करने में दशकों लग जाते, चार साल में बहुत कुछ बदला

First Published: Wednesday, August 15, 2018 04:12 PM

RELATED TAG: Women In Armed Forces, Permanent Commission, Pm Modi, Pm Narendra Modi, Independence Day, Bjp Govt, Narenda Modi, Ssc,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो