BREAKING NEWS
  • डोनाल्ड ट्रंप ने दिया संकेत, पाकिस्तान के खिलाफ भारत उठा सकता है कोई बड़ा कदम- Read More »
  • सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35A को असंवैधानिक बता सकती है सरकार: सूत्र
  • गोरखपुर में गरजे अमित शाह, कहा- आतंकवाद का मुंहतोड़ जवाब देने में मोदी सरकार तनिक भी देरी नहीं की है- Read More »

2019 चुनाव में कांग्रेस के बिना विपक्षी एकता किसी कीमत पर संभव नहीं: शिवसेना

IANS  |   Updated On : July 02, 2018 04:59 PM
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

मुंबई:  

शिवसेना ने कहा है कि संसद में कम सीट होने और कई राज्यों में सत्ता गंवाने के बावजूद कांग्रेस अब भी राष्ट्रीय स्वीकार्यता वाली पार्टी है और इसके बिना विपक्षी एकता संभव नहीं है।

2019 लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी एकता के प्रयासों पर टिप्पणी करते हुए शिवसेना ने कहा कि सभी विपक्षी दल कुल मिलाकर क्षेत्रीय ताकत ही हैं, जबकि कांग्रेस अभी भी 'राष्ट्रीय ताकत' बनी हुई है।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र 'सामना' व 'दोपहर का सामना' के संपादकीय में कहा, 'विपक्षी पार्टियों के सामने सबसे बड़ी समस्या राहुल गांधी के नेतृत्व को स्वीकार करने या न करने की है, क्योंकि विपक्षी नेताओं में प्रधानमंत्री पद के कई उम्मीदवार हैं।'

मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य के बारे में शिवसेना ने कहा कि बीजेपी की सफलता का मंत्र है कि इसे संसद में बहुमत प्राप्त है, इसके पास बहुत सारा धन है, जिससे वह कुछ भी 'खरीद' सकती है और इस सबके साथ विपक्ष में बिख्रराव तो है ही।

शिवसेना ने कहा, 'इन सबके बावजूद, बीजेपी की असफलता स्पष्ट है और लोगों में काफी गुस्सा है। गठबंधन के सभी साथियों ने इसे छोड़ दिया है और बीजेपी को यह समझ में आया है कि केवल क्षेत्रीय पार्टियां ही 2019 लोकसभा चुनाव में उसकी नैया पार लगा सकती हैं।'

पार्टी ने कहा कि बीजेपी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कोई विकल्प नहीं है और पार्टी विश्वास की कमी से जूझ रही है। शिवसेना ने कहा कि पार्टी को केवल विपक्षी दलों में बिखराव से फायदा हुआ।

संपादकीय के अनुसार, 'इस स्थिति में, अगर बीजेपी 100 सीटों पर सिमट गई तो क्या पार्टी ब्लादिमीर पुतिन या डोनाल्ड ट्रंप या यूएई से अपने सांसद मंगाएगी?'

शिवसेना ने आश्चर्य जताते हुए कहा, 'पिछले चार वर्षो में भारत के लोग बीजेपी के खिलाफ हुए हैं लेकिन इसने पुतिन और ट्रंप से दोस्ती सुनिश्चित की है..लेकिन इससे चुनाव में कैसे फायदा होगा।'

विपक्षी पार्टियों में, प्रधानमंत्री के पद के लिए ममता बनर्जी, मायावती, अखिलेश यादव, एम.के. स्टालिन, एन. चंद्रबाबू नायडू, नवीन पटनायक, के. चन्द्रशेखर राव और यहां तक की 85 वर्ष के पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवगौड़ा भी उम्मीदवार हैं।

भविष्य में अपने सभी चुनाव खुद के दम पर लड़ने का निर्णय करने वाली शिवसेना ने कहा, 'रथ तैयार है, लेकिन चक्के लापता हैं, कई घोड़े पहले से ही दौड़ में हैं..यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि इसका नाम तीसरा मोर्चा होगा या चौथा मोर्चा।'

और पढ़ें: महाराष्ट्र पुलिस ने बच्चा चोरी के शक में 5 लोगों की हत्या मामले में 23 लोगों को किया गिरफ्तार

पार्टी ने कहा, 'हालांकि, विपक्षी दल राहुल गांधी द्वारा गुजरात और कर्नाटक विधानसभा में बीजेपी के अंदर पैदा किए गए डर को दरकिनार नहीं कर सकते। लेकिन सभी विपक्षी दल अभी भी असमंजस में हैं कि राहुल गांधी के नेतृत्व को स्वीकार करें या ना करें।'

शिवसेना ने चेतावनी देते हुए कहा, 'शक्तिशाली लोकतंत्र के लिए एक मजबूत विपक्ष की जरूरत होती है..लोकतंत्र के हित में, विपक्षी पार्टियों को जल्द से जल्द राहुल गांधी को स्वीकार करना चाहिए जिन्होंने बीजेपी को डराया था...और बीजेपी को सत्ता प्राप्त करने के लिए विपक्षियों को तोड़ने वाले पार्टी के रूप में जाना जाता है।'

और पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट का सीवीसी, वीसी की नियुक्तियां रद्द करने से इनकार

First Published: Monday, July 02, 2018 04:45 PM

RELATED TAG: Shivsena, Loksabha Election 2019, Congress,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो