BREAKING NEWS
  • चंद्रबाबू नायडू आवास विवाद में तेलुगुदेशम पार्टी ने YSR Congress पर लगाए ये आरोप- Read More »
  • World Cup, NZ vs SA Live: दक्षिण अफ्रीका ने न्यूजीलैंड को दिया 242 रनों का आसान लक्ष्य- Read More »
  • मुखर्जी नगर हिंसा मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को लगाई फटकार- Read More »

महाराष्ट्र के कई गांव सूखे की चपेट में, लोग कीचड़ से भरा दूषित पानी पीने को मजबूर

News State Bureau  |   Updated On : June 10, 2019 03:41 PM
महाराष्ट्र के कई गांव सूखे की चपेट में (फोटो-ANI)

महाराष्ट्र के कई गांव सूखे की चपेट में (फोटो-ANI)

नई दिल्ली:  

'जल ही जीवन है', 'जल है तो कल है' और 'जल ही जीवन' जैसे स्लोगन आपने खूब सुने होंगे लेकिन असल में इसके मायने वहीं समझ सकता है जो बूंद-बूदं पानी के लिए तरसता है. गर्मियों में देश के कई राज्यों के गांव पानी कि किल्लत से जूझ रहे होते हैं, उन्हें पीने के पानी के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है. महाराष्ट्र के कई गांव इन दिनों सूखे की चपेट में यहां के लोगों को पानी के लिए काफी संघर्ष करना पड़ रहा है वहीं अमरावती के कई गांवों में लोग कीचड़ और दूषित वाला पानी पीने को मजबूर है.ग्रामीणों के इन हालातों से प्रशासन अभी भी बेखबर है.

ये भी पढ़ें: राजस्थान के अजमेर में पानी को लेकर मचा हाहाकार, बूंद-बूंद से घड़ा भरने को मजबूर प्यासी जनता

मेलघाट में बिहाली और भंडारी गांव के लोगों ने अपना दर्द बताते हुए कहा, 'हम भोजन के बिना तो कुछ समय रह सकते है लेकिन पानी के बिना कैसे जिंदा रहेंगे. हम सभी पानी जमा करने के लिए हर रोज 3-4 घंटे लगाते है, सरकार हमारे लिए कुछ भी नहीं कर रही है.'

वहीं शिवराज बेलकर नाम के ग्रामीण ने एक न्यूज एजेंसी को बताया था कि उन्हें पानी के लिए 40 फीट गहरे कुएं में जाना पड़ता है. उन्होंने ये भी बताया कि पहले वो कुएं में से गंदे पानी को हटाते है और फिर साफ पानी का इंतजार करते है, जिसमें उनका काफी समय खर्च होता है. वहीं साफ पानी के इंतजार में तो कभी-कभी गांव के लोगों को पूरा दिन लग जाता है.

और पढ़ें: पेयजल संकट से गुजर रहे राजस्थान में परंपरागत जल स्त्रोत को पुनर्जीवित करने की मुहिम

सूखा पूर्व चेतावनी प्रणाली (डीईडब्ल्यूएस) के मुताबिक भारत का लगभग 42 फीसदी हिस्सा 'असामान्य रूप से सूखाग्रस्त' है.  पिछले साल के मुकाबले ये आंकड़े  5 फीसदी अधिक है. डीईडब्ल्यूएस की माने तो असामान्य रूप से सूखाग्रस्त इलाके का हिस्सा बढ़कर 42.61 फीसदी हो गया है, जो 21 मई से पहले 42.18 फीसदी था. सबसे बुरी तरह से प्रभावित इलाकों में तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान शामिल हैं. 

First Published: Monday, June 10, 2019 02:20 PM

RELATED TAG: Water Crisis, Water, Amravati, Villages, Maharashtra, Socials News,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो