तूतीकोरिन हिंसा Live: पुलिस की गोलीबारी का पलानीसामी ने किया बचाव, कहा- ड्रामा है प्रदर्शन का हंगामा

स्टरलाइट कॉपर को बंद करने की मांग को लेकर हुए प्रदर्शन के बाद तूतीकोरिन में 23 मई रात 9 बजे से लेकर अगले आदेश तक इंटरनेट की सर्विस को बंद कर दिया गया है।

  |   Updated On : May 24, 2018 07:40 PM

ख़ास बातें
  • तूतीकोरिन हिंसा के बाद प्रशासन के अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा बंद 
  • हिंसा में पुलिस की गोलीबारी में 11 लोगों की मौत हो गई थी 

तूतीकोरिन :  

तमिलनाडु में वेदांता समूह की कंपनी स्टरलाइट कॉपर को बंद करने की मांग को लेकर हुए प्रदर्शन में पुलिस की गोली बारी से मरने वालों संख्या बढ़ कर 13 हो गई है। वहीं करीब 70 से ज्यादा लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। 

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी अस्पताल में भर्ती हिंसा प्रभावितों से मिलने जा सकते हैं। 

प्रदर्शन को कमजोर करने और अफवाहों से बचने के लिए प्रशासन ने  तूतीकोरिन, तिरूनावेली और कन्याकुमारी में 23 मई रात 9 बजे से अगले पांच दिनों के लिए इंटरनेट की सर्विस को बंद कर दिया गया है। 

पुलिस की गोलीबारी में हुई मौत के बाद इलाके में स्थिति तनावपूर्ण हो गई है। संभावित विरोध प्रदर्शन को रोकने और कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए तूतीकोरिन में स्थानीय प्रशासन ने धारा 144 लगा दी है। 

बता दें कि पुलिस ने इस हिंसा के मामले में 67 लोगों को गिरफ्तार किया है।  स्टरलाइट कॉपर प्लांट के बंद हो जाने के  32 हजार 500 नौकरियों पर असर पड़ा है। 

Live Update: 

पलानीसामी ने कहा अगर किसी पर हमला किया जाता है तो वो खुद के बचाव में कोई न कोई कदम उठाता है। यही कदम पुलिस ने मंगलवार को उठाया।

हंगामें के बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में जो कुछ भी हुआ वो केवल इसलिए हुआ क्योंकि कुछ पार्टी, एनजीओ औऱ असमाजिक तत्व प्रदर्शनकारियों को गलत रास्ते पर ले गए। 

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा तूतीकोरिन में लोगों की मृत्यु को  लेकर मैं बहुत दुखी हूं। पीएम मोदी भी मामले को लेकर चिंतित हैं। हालात ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय ने इस मामले में राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है।  

तमिलनाडु के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर संदीप नंदुरी ने कहा कि स्थिति को नॉर्मल करना मेरी पहली प्राथमिकता है।  जहां तक जांच की बात है तो वो सरकार द्वारा नियुक्त जज करेंगे।

स्टरलाइट कॉपर को बंद करने की मांग को लेकर तमिलनाडु सचिवालय के बाहर धरना दे रहे स्टालिन को पुलिस ने हिरासत में लिया। 

# डीएमके प्रेसीडेंट एम के स्टालिन  ने कहा कि 12 लोगों की मौत के बाद भी गुनहगारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। मुख्यमंत्री असफल हो गए है। उन्हे जिले का दौरा करने और लोगों से मिलने की भी चिंता नहीं है। इसलिए हम तत्काल प्रभाव से मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग करते हैं। डीजीपी राजेंद्रन को भी इस्तीफा दे देना चाहिए।

# तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने तूतीकोरिन के डीएम को  स्टरलाइट कॉपर प्लांट में पावर सप्लाई रोकने के आदेश दिये। बोर्ड ने पाया कि लाइसेंस से रिनेवल के बिना भी यूनिट में  प्रोडक्शन का काम चल रहा था।

# डीएमके तमिलनाडु सरकार के खिलाफ 25 मई को राज्यव्यापी बंद का आह्ववाहन करेगी। पार्टी की मांग है कि इस प्लांट को स्थायी रूप से बंद कर दिया जाए।  

# तूतीकोरिन में इंटरनेट की सेवा 5 दिनों के लिए बंद कर दी गई है। इंटरनेट बुधवार शाम 9 बजे से बंद कर दिया गया था। इस मामले में अब 67 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

# पुलिस फायरिंग से मरने वालों की संख्या अब 13 हो गई है, करीब 70 से ज्यादा लोगों का इलाज चल रहा है। कल रात से कोई प्रदर्शन नहीं हुआ है। संवेदनशील इलाकों में भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात किया गया है।

# कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि  राज्य सरकार को  पता था कि यह आंदोलन का 100वां दिन है, यह बड़ा होगा। उन्हें सुरक्षा-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए पहले ही बेहतर इंतजाम करने चाहिए थे। उन्हें केवल फायरिंग कर दी। यह  जालियावाला बाग की तरह नरसंहार था।

सामान्य जीवन प्रभावित 

शहर में धारा 144 लगने के कारण सामान्य जीवन बहुत प्रभावित हुआ है।आम लोगों को बिस्किट और दूध लेने के लिए भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लगातार तीसरे दिन भी दुकानें बंद हैं।

बड़े अधिकारियों के तबादले

तूतीकोरिन के डीएम और एसपी को भी ट्रांसफर कर दिया गया है। तिरुनावेली के कलेक्टर संदीप नंदूरी अब तूतीकोरिन के नए डीएम है। वहीं एसपी पी मंहेंद्रन की जगह अब तिरू मुरली रंभा लेंगे।

गृह मंत्रालय ने इस हिंसा को लेकर तमिलनाडु सरकार से रिपोर्ट मांगी है। वहीं मानवाधिकार आयोग ने राज्य मुख्य सचिव और पुलिस डीआईजी को नोटिस जारी कर दो सप्ताह के भीतर रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है। 

कोर्ट ने लगाई रोक

बुधवार को मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने तूतीकोरिन में वेदांता समूह की कंपनी स्टरलाइट के नए कॉपर स्मेलटर के निर्माण पर अंतरिम रोक लगा दी।

 मुआवजे की घोषणा 

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई के पलानीसामी ने प्रदर्शन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों को 10 लाख रुपये के मुआवजा राशि का ऐलान किया। वहीं गंभीर रूप से घायल लोगों को 3 लाख और कम घायल लोगों को एक लाख रुपये मुआवजा दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कुमारस्वामी के बहाने विपक्षी हुए साथ, क्या मोदी को दे पाएंगे मात

First Published: Thursday, May 24, 2018 08:07 AM

RELATED TAG: Tutikorin, Sterlite Protest, Tamil Nadu,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो