केरल बाढ़: मुख्यमंत्री बोले पुनर्निर्माण के लिए फंड की समस्या नहीं, मंत्री बोले- 45 साल पीछे चला गया इडुक्की

विजयन ने कहा, 'आज मुद्दा राशि का नहीं है, बल्कि मुद्दा धनराशि को स्वीकारे जाने का है। आने वाले दिनों में इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा।'

  |   Updated On : August 26, 2018 08:19 PM
केरल के पुनर्निर्माण के लिए फंड की समस्या नहीं (पीटीआई)

केरल के पुनर्निर्माण के लिए फंड की समस्या नहीं (पीटीआई)

नई दिल्ली:  

मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने रविवार को भरोसा जताया कि केरल के पुनर्निर्माण के लिए फंड की कोई समस्या नहीं होगी। विजयन ने एक टीवी चैनल से कहा, 'आज सभी क्षेत्र के लोग केरल के लिए योगदान कर रहे हैं। कल्पना कीजिए यदि सभी कामकाजी लोग केरल के लिए एक दिन का वेतन देने का निर्णय लेते हैं तो कितना पैसा हो जाएगा।' उन्होंने दोहराया कि यूएई के शासक ने 10 करोड़ डॉलर देने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वादा किया था।

विजयन ने कहा, 'आज मुद्दा राशि का नहीं है, बल्कि मुद्दा धनराशि को स्वीकारे जाने का है। आने वाले दिनों में इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा।'

हालांकि केरल के बिजली मंत्री एमएम मणि मुख्यमंत्री पिनरई विजयन की बातों से इत्तेफाक़ नहीं रखते। एमएम मणि ने रविवार को कहा कि पहाड़ी इडुक्की जिला सदी की भयानक बाढ़ के कारण 40 साल पीछे चला गया है। सीपीएम नेता ने मीडिया से कहा, "हमारे पूर्वजों ने पिछले 100 सालों में इडुक्की में जो कुछ किया था, वह सब बह गया। इडुक्की 40 साल पीछे चला गया है। उन्होंने कहा कि इडुक्की के लिए यह एक सबसे भयानक आपदा थी।

इडुक्की में लोगों का मुख्य पेशा खेती है। लेकिन तमाम पहाड़ियों और खतरनाक इलाकों के कारण इस जिले की जिंदगी कभी आसान नहीं रही है। इडुक्की में कई बड़े बांध हैं, जिनमें जलस्तर बढ़ने के बाद उनके गेट खोले जाने से इस महीने राज्य भर में अभूतपूर्व तबाही हुई है। इडुक्की में मई अंत से अगस्त मध्य तक सर्वाधिक बारिश हुई है। इसके कारण इडुक्की, मुल्लापेरियार और अन्य बांधों का जलस्तर बढ़ गया।

पिछले 26 सालों में पहली बार इडुक्की बांध के गेट खोले गए, जिसके कारण बाढ़ आई। मणि ने कहा, "मैंने इतनी भयानक तबाही इसके पहले नहीं देखी।"

तबाही की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इडुक्की राजधानी तिरुवनंतपुरम से कट गया है, क्योंकि दोनों को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग क्षतिग्रस्त हो गया है। लिहाजा मणि को पड़ोसी राज्य तमिलनाडु से होते हुए तिरुवनंतपुरम जाना पड़ता है।

मणि को इडुक्की बांध के जल कुप्रबंधन के लिए विपक्ष के हमले का सामना करना पड़ा है। लेकिन उनका कहना है कि सभी नियमों का पालन किया गया। उन्होंने कहा, "सभी संबंधित लोगों से चर्चा के बाद स्पष्ट दिशानिर्देशों के अनुसार सबकुछ किया गया।"

इडुक्की के विधायक, रोशी ऑगस्टिन ने रविवार को कहा कि इडुक्की को वापस अपने पैर पर खड़ा करने के लिए और सबकुछ गंवा चुके लोगों के पुनर्वास के लिए भारी प्रयास करने की जरूरत है।

और पढ़ें- तीन तलाक पर बोले पीएम मोदी, मुस्लिम महिलाओं को सामाजिक न्याय दिलाने के लिए खड़े हैं साथ

कांग्रेस के विधायक ऑगस्टिन ने कहा, "त्रासदी आने के बाद राजनीति को दरकिनार कर दिया गया है। हर कोई इडुक्की को इसका मूल रूप प्रदान करने के लिए एक टीम के रूप में काम कर रहा है। उचित बांध प्रबंधन नीति मौजूदा समय की मांग है।"

First Published: Sunday, August 26, 2018 08:08 PM

RELATED TAG: Kerala, Indian Air Force, Kerala Flood Relief, Cm Pinarayi Vijayan, Idukki, Kerala Flood,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो