BREAKING NEWS
  • RBI ने सरकार को 28,000 करोड़ रुपये की सरप्लस राशि देने का फैसला किया- Read More »
  • मनी लांड्रिंग केस : रॉबर्ट वाड्रा को मंगलवार को फिर होना होगा हाजिर, ED करेगी पूछताछ- Read More »
  • J&K: पुलवामा में आतंकियों से भीषण एनकाउंटर, ब्रिगेडियर, कैप्टन, लेफ्टिनेंट और DIG को लगी गोली, पढ़ें पूरी खबर- Read More »

आतंक का रास्ता चुनने पर पिता ने कहा था- जो पथ तुमने चुना वहां धोखे के अलावा कुछ और नहीं

News State Bureau  |   Updated On : January 10, 2018 08:47 AM
फरहान वानी (फाइल फोटो)

फरहान वानी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

कश्मीर में आतंक की तरफ युवाओं का झुकाव कुछ नया नहीं है। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के कश्मीरी छात्र मनान वानी के कथित तौर पर आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल होने की खबर के बीच सुरक्षाबलों ने अनंतनाग में एक 18 वर्षीय आतंकी फरहान वानी को मार गिराया।

फरहान पिछले साल आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़ा था। 11 वीं कक्षा में पढ़ने वाला छात्र 14 जून को फिजिक्स का ट्यूशन के लिए गया लेकिन वह नहीं लौटा। उसके बाद पुलिस ने परिवार वालों को बताया कि वह हिजबुल में शामिल हो चुका है।

कुलगाम के खुदवानी गांव का रहने वाले फरहान के पिता ने आतंक का रास्ता छोड़ घर वापस लौटने की अपील की थी। लेकिन वह नहीं माना। सुरक्षाबलों ने मंगलवार को अनंतनाग जिले के लारनू गांव में फरहान को उसके साथी मोहम्मद फरहाम के साथ ढेर कर दिया।

शिक्षा विभाग में कार्यरत फरहान के पिता गुलाम मोहम्मद वानी ने 24 नवंबर को फेसबुक पर मार्मिक पोस्ट लिखा। उसने अपनी प्यार जताई, लाचारी बताई, दर्द साझा किया, पिता की जिम्मेदारी निभाई लेकिन फरहान का दिल नहीं पसीजा।

उन्होंने कहा था, 'मेरे प्यारे बेटे जब से तुम हमें छोड़कर गए हो, मेरे शरीर ने धोखा देना शुरू कर दिया है। बेटे मैं तुम्हारे दिए गए दर्द से चीखता हूं, फिर भी उम्मीद है कि तुम लौट आओगे। मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता कि मैं तुम्हारे मुस्कुराते चेहरे को कितना मिस करता हूं। एक भी मिनट ऐसा नहीं है, जो तुम्हारी यादों के बगैर गुजरा हो। मुझे उम्मीद है कि तुम ठीक होगे। मैं तुम्हारा पिता हूं, अगर मैं सही-गलत नही बताऊंगा तो कोई और नहीं बताने वाला।'

पिता ने आगे लिखा, 'मुझे दुख है, मैं मरने की कगार पर हूं, मेरे पास कोई चारा नहीं है। तुम्हें अभी बहुत कुछ सीखना है, मगर मैं तुम्हें सिखाने और डांटने के साथ सहायता करने के लिए मौजूद नहीं रहूंगा। मेरे बेटे प्लीज तुम लौट आओ और फिर से नई जिंदगी शुरू करो। जो पथ तुमने चुना है, वह सिवाय दर्द, तनाव और धोखे के अलावा कुछ नहीं देगा।'

और पढ़ें: अनंतनाग में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर

First Published: Wednesday, January 10, 2018 08:24 AM

RELATED TAG: Jammu Kashmir, Hizbul Mujahideen, Fathers Appeal, Anantnag, Encounter,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो