BREAKING NEWS
  • World Cup, AUS vs BAN Live: आखिरी दम तक लड़ता रहा बांग्लादेश, 48 रनों से जीता ऑस्ट्रेलिया- Read More »
  • World Cup, AUS vs BAN Live: बांग्लादेश के मुशफिकुर रहीम ने जड़ा वनडे करियर का 7वां शतक- Read More »
  • World Cup: प्रेक्टिस के दौरान विजय शंकर को लगी चोट, जसप्रीत बुमराह ने दी ये खबर- Read More »

भारत को रक्षा क्षेत्र में मिली बड़ी कामयाबी, अब बिना सीमा में घुसे दुश्मन को ऐसे मार गिराएगी IAF

News State Bureau  |   Updated On : May 22, 2019 08:29 PM
ब्रह्मोस मिसाइल (ANI)

ब्रह्मोस मिसाइल (ANI)

ख़ास बातें

  •  पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाक में घुसकर आतंकी को मारा था
  •  ब्रह्मोस मिसाइल के संस्‍करण को डीआरडीओ ने स्‍वदेशी तरीके से किया विकसित
  •  भारती वायुसेना ने मिराज-2000 विमानों से बालाकोट में किया था हमला

नई दिल्ली:  

भारत (India) को रक्षा क्षेत्र में बड़ी कामयाबी मिली है. भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस (BrahMos) के लड़ाकू विमान से छोड़े जाने वाले संस्‍करण का सफल परीक्षण किया. यह परीक्षण सुखोई-30एमकेआई लड़ाकू विमान (Su-30 MKI fighter aircraft) से किया गया. अब भारतीय वायुसेना बिना दुश्मन की सीमा में घुसे उनके ठिकानों को तबाह कर सकेगी.

यह भी पढ़ेंः कैमूर: प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूर्व विधायक ने लहराई बंदूक, कहा- लोकतंत्र बचाने के लिए हम गोली चलाने को तैयार हैं

विमान से छोड़े जाने के बाद मिसाइल ने जमीन पर अपने लक्ष्‍य को सफलतापूर्वक नष्‍ट कर दिया. ब्रह्मोस मिसाइल के उक्‍त संस्‍करण को डीआरडीओ (DRDO) ने पूरी तरह स्‍वदेशी तरीके से विकसित किया है. ब्रह्मोस के इस परीक्षण के सफल होते ही भारतीय वायुसेना एक नई मजबूती हासिल कर लेगी. बता दें कि पाकिस्‍तान के बालाकोट में जैश के ठिकानों पर एयर स्‍ट्राइक के दौरान भारतीय वायुसेना ने स्‍पाइस-2000 बमों का इस्‍तेमाल किया था. यह हमला मिराज-2000 विमानों के जरिए अंजाम दिया गया था.

यह भी पढ़ेंः पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा- ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं किया जा सकता

सूत्रों की मानें तो भारतीय वायुसेना इस मिसाइल के जरिए देश के 150 किलोमीटर अंदर से ही बालाकोट जैसे हमले को अंजाम दे सकेगी. इसके लिए विमानों को सीमा पार करने की भी जरूरत नहीं होगी. ब्रह्मोस मिसाइल को हवा से छोड़े जाने का पहला परीक्षण जुलाई 2018 में सुखोई-30एमकेआई लड़ाकू विमान से बंगाल की खाड़ी के ऊपर किया गया था.

यह भी पढ़ेंः वीआईपी सीटों का एग्‍जिट पोल : पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह और राहुल गांधी को भारी जीत, सनी देओल का जलवा

भारतीय वायुसेना इस 290 किलोमीटर मारक क्षमता वाली मिसाइल को तेजी से लाने के लिए बेहद उत्‍सुक है. ब्रह्मोस मिसाइल दो चरणीय वाहन है. इसमें ठोस प्रोपेलेट बुस्टर और एक तरल प्रोपेलेट रैम जैम सिस्टम लगा हुआ है. यह मिसाइल अंडरग्राउंड परमाणु बंकरों, कमांड ऐंड कंट्रोल सेंटर्स और समुद्र के ऊपर उड़ रहे एयरक्राफ्ट्स को दूर से ही ध्‍वस्‍त करने में सक्षम है.

First Published: Wednesday, May 22, 2019 08:15 PM

RELATED TAG: Indian Air Force, Iaf, Brahmos, Air Version Missile, Su-30 Mki Fighter Aircraft, Balakot Attack, Drdo, Mirag2000, Air Strike,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो