जनरल रावत ने कहा, DRDO केमिकल, बायोलॉजिकल हथियारों से बचने की तकनीकी करे विकसित

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर हथियारों का खतरा बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि ये खतरा आतंकियों से अधिक है।

  |   Updated On : January 12, 2018 04:29 PM

नई दिल्ली:  

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर हथियारों का खतरा बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि ये खतरा आतंकियों से अधिक है।

उन्होंने जोर देते हुए कहा कि डीआरडीओ के इस दिशा में काम करना चाहिये और ऐसी तकनीक विकसित करनी चाहिये ताकि ऐसे हथियारों से निपटा जा सके।

रक्षा मंत्रालय के तहत आने वाला डीआरडीओ देश की रक्षा तकनीकी के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था है। इसने सेना के लिये कई स्टेट ऑफ आर्ट हथियार विकसित किये हैं।

केमिकल हथियारों के आतंकियों के हाथों में जाने के खतरे को देखते हुए सेना चाहती है कि डीआरडीओ इस दिशा में काम करे।

और पढ़ें: अंतरिक्ष में ISRO की 100वीं छलांग, 31 सेटेलाइट का सफल प्रक्षेपण

First Published: Friday, January 12, 2018 01:03 PM

RELATED TAG: Army Chief General Bipin Rawat, Drdo,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो