BREAKING NEWS
  • World Cup, NZ vs SA Live: केन विलियमसन का शानदार शतक, न्यूजीलैंड ने दक्षिण अफ्रीका को 4 विकेट से हराया- Read More »
  • चंद्रबाबू नायडू आवास विवाद में तेलुगुदेशम पार्टी ने YSR Congress पर लगाए ये आरोप- Read More »
  • World Cup, NZ vs SA Live: दक्षिण अफ्रीका ने न्यूजीलैंड को दिया 242 रनों का आसान लक्ष्य- Read More »

आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज का पदभार ग्रहण करने से किया इन्‍कार, नौकरी से दिया इस्‍तीफा

Arvind SIngh  |   Updated On : January 11, 2019 03:25 PM
आलोक वर्मा (फाइल फोटो)

आलोक वर्मा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

सीबीआई निदेशक पद से हटाए गए आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज का पदभार ग्रहण करने से इन्‍कार कर दिया है. साथ ही नाैकरी से इस्‍तीफा देते हुए उन्‍होंने कहा, इस पूरे मामले में प्राकृतिक न्‍याय के सिद्धांत को कुचल दिया गया है. ऐसा इसलिए किया गया, ताकि वैधानिक रूप से निदेशक पद पर मौजूद व्‍यक्‍ति को हटाया जा सके. दूसरी ओर, आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक पद से हटाए जाने के बाद देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई उनके खिलाफ जांच कर सकती है. पीटीआई ने उनके इस्‍तीफे की खबर की पुष्‍टि की है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा गृह मंत्रालय को भेज दिया है. 

यह भी पढ़ें : आलोक वर्मा की विदाई के बाद कार्यकारी निदेशक एम नागेश्‍वर राव ने ट्रांसफर पर लगाई रोक

सूत्रों के मुताबिक सीबीआई मीट कारोबारी मोईऩ कुरैशी मामले में आलोक वर्मा के बौतर सीबीआई निदेशक रहते ही संदिग्ध भूमिका की जांच कर सकती है. वर्मा को लेकर जो सीवीसी ने अपनी रिपोर्ट सरकार को दी थी उसमें उनपर कई गंभीर आरोप लगे थे. CVC रिपोर्ट में रिसर्च और एनालिसिस विंग (रॉ Research and Analysis Wing) ने एक फोन कॉल इंटरसेप्‍ट किया था, जिसमें ‘सीबीआई के नंबर वन अफसर को पैसे सौंपे जाने’ की चर्चा हुई थी.

यह भी पढ़ें : निदेशक पद से हटाए जाने के बाद आलोक वर्मा की हो सकती है CBI जांच, सूत्रों ने किया दावा

प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली समिति ने केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC सीवीसी) की इस रिपोर्ट पर गौर किया कि मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ सीबीआई के नंबर-2 अफसर राकेश अस्थाना हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना को आरोपी बनाना चाहते थे पर आलोक वर्मा ने मंजूरी ही नहीं दी. मोइन कुरैशी के खिलाफ जांच को प्रभावित करने की कोशिश की गई थी. दो करोड़ रुपए की रिश्वत लिए जाने के भी सबूत थे. इस मामले में वर्मा की भूमिका संदेहास्पद थी. प्रथम दृष्टया उनके खिलाफ मामला बन रहा था. वहीं सना ने एक शिकायत दर्ज कराकर आरोप लगाया था कि कैसे उसने बिचौलियों के जरिए अस्थाना को रिश्वत दी थी.

First Published: Friday, January 11, 2019 03:19 PM

RELATED TAG: Cbi Vs Cbi, Alok Verma, Dg Fire Services, Moin Kuraishi, Cvc Report, Alok Verma Resigns, Alok Verma Sacked,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो