बिहार के बाल आश्रय गृहों में भूख, अलगाव और मौखिक प्रताड़ना का शिकार होते हैं बच्चे: रिपोर्ट

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टिस) की एक रिपोर्ट में यह बात कही गयी है और इन सरकारी बालगृहों में बच्चों के भूख, अलगाव तथा मौखिक प्रताड़ना के शिकार होने के मामलों का उल्लेख किया गया है।

News State Bureau  |   Updated On : August 27, 2018 08:21 PM

नई दिल्ली:  

बिहार में गोद देने वाली विशेष एजेंसियों के केंद्रों में रहने वाले कुछ बच्चे बिल्कुल भी नहीं बोलते हैं क्योंकि उनके पास बात करने के लिए कोई होता नहीं है। टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टिस) की एक रिपोर्ट में यह बात कही गयी है और इन सरकारी बालगृहों में बच्चों के भूख, अलगाव तथा मौखिक प्रताड़ना के शिकार होने के मामलों का उल्लेख किया गया है।

सरकार 6 साल तक की उम्र के लावारिस और लापता बच्चों को रखने के लिए इन विशेष केंद्रों को चलाती है जिन्हें स्पेशलाइज्ड एडोप्शन एजेंसीज (एसएए) कहा जाता है।

बिहार के 20 जिलों में 21 एसएए हैं जिनके ऑडिट में टिस ने पाया कि तीन साल की उम्र के आसपास के कुछ बच्चे बिल्कुल भी नहीं बोलते हैं क्योंकि उन केंद्रों में कोई प्रशिक्षित संस्थान नहीं है और उन बच्चों के पास बात करने के लिए कोई नहीं होता। इन संस्थानों में 70 प्रतिशत बालिकाएं होती हैं।

टिस की जिस रिपोर्ट में बिहार के आश्रय गृहों में यौन उत्पीड़न के मामलों का खुलासा हुआ था, उसमें ऐसे बच्चों को दी जाने वाली सजाओं के तरीकों को भी बताया गया है जिनमें कुछ अनाथ हैं, कुछ भागे हुए हैं और कुछ ऐसे हैं जिन्हें परिवारों ने छोड़ दिया है।

और पढ़ें- BRD हादसे पर योगी के बयान को डॉ कफील ने बताया झूठा, कहा- नवजात बच्चे को नहीं होती इंसेफेलाइटिस

रिपोर्ट के अनुसार, 'इन केंद्रों पर बच्चों को बाथरूम में बंद कर देने, उनसे उठक-बैठक कराने, अलग-थलग करने, अपशब्द बोलने जैसी बातें देखी गईं।'

इस तरह की सजाओं को बहुत पीड़ादायक बताते हुए रिपोर्ट तैयार करने वाली टिस टीम की अगुवाई कर रहे मोहम्मद तारिक ने कहा कि बच्चों पर इनका दीर्घकालिक असर होता है।

तारिक ने बताया, 'ये बच्चे बहुत छोटे हैं। उन्हें बाथरूम में बंद कर देने से उनके लिए बड़ी मानसिक आघात वाली स्थिति पैदा हो सकती है जिन्हें शायद ये भी नहीं पता कि उन्हें सजा क्यों दी जा रही है?'

उन्होंने केंद्रों पर स्वास्थ्य कर्मियों की कमी पर भी चिंता जताई। तारिक ने कहा, 'कई बार हमने देखा कि लापरवाही या कर्मचारियों की कमी के कारण किसी बच्चे को दो बार दवाई दे दी गई या दवा दी ही नहीं गई। इससे जान पर खतरा भी हो सकता है।'

और पढ़ें- घर में ही जानें बच्‍चे में कितनी है प्रतिभा, शोध में हुआ खुलासा

रिपोर्ट में खासतौर पर तीन एसएए केंद्रों को लेकर गंभीर चिंता जताई गई है। इनमें पटना का नारी गुंजन, मधुबनी का आरवीईएसके और कैमूर का ज्ञान भारती हैं।

First Published: Monday, August 27, 2018 08:08 PM

RELATED TAG: Verbal Abuse, Tata Institute Of Social Sciences, Specialised Adoption Agencies, Mohammad Tarique, Bihar Shelter Home,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो