CBI vs CBI : सीवीसी के सामने पेश हुए आलोक वर्मा, भ्रष्टाचार के आरोपों को किया खारिज

सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) निदेशक आलोक वर्मा गुरुवार को केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के सामने पेश हुए. उन्होंने अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज किया.

News State Bureau  |   Updated On : November 08, 2018 07:12 PM
सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा (फाइल फोटो)

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) निदेशक आलोक वर्मा गुरुवार को केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के सामने पेश हुए. आलोक वर्मा से केंद्रीय सतर्कता आयुक्त के वी चौधरी ने पूछताछ की, इस दौरान वर्मा ने सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज किया. आलोक वर्मा सीवीसी के दफ्तर में दोपहर को पहुंचे थे और करीब दो घंटे तक रुके. सीवीसी अधिकारियों ने बिना किसी अन्य जानकारी दिए बताया कि वर्मा ने के वी चौधरी और सतर्कता आयुक्त शरद कुमार से मुलाकात की.

सुप्रीम कोर्ट ने 26 अक्टूबर को अस्थाना द्वारा वर्मा पर लगाए गए आरोपों की जांच को पूर्ण करने के लिए केंद्रीय सतर्कता आयोग को दो सप्ताह का समय दिया था. सीबीआई के शीर्ष अधिकारियों के बीच उपजे विवाद के बाद 24 अक्टूबर को सरकार ने वर्मा और अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया था. अधिकारियों के मुताबिक, राकेश अस्थाना ने भी सीवीसी से मुलाकात की.

बता दें कि पूर्व न्यायाधीश ए के पटनायक की निगरानी में केंद्रीय सर्तकता आयोग आलोक वर्मा के खिलाफ आरोपों की जांच कर रही है. वर्मा को उनके कार्यभार से हटा दिया गया है.

अधिकारियों ने कहा कि अस्थाना द्वारा वर्मा पर लगाए गए आरोपों की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारियों से सतर्कता आयोग ने हाल ही में पूछताछ की है.

वर्मा ने मंगलवार को अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के सभी आरोपों को खारिज किया था और कहा कि उन्होंने जो कार्रवाई की वह अस्थाना के खिलाफ चल रहे मामले की जांच से संबंधित थी.

और पढ़ें : सीबीआई इससे पहले भी रही विवादों में, सुप्रीम कोर्ट ने की थी कड़ी टिप्‍पणी

सीवीसी को दिए जवाब में वर्मा ने अस्थाना द्वारा लगाए गए सभी आठ आरोपों पर अपने जवाब पेश किए. अस्थाना ने 24 अगस्त को कैबिनेट सचिव से शिकायत की थी कि मांस कारोबारी मोईन कुरैशी के मामले में आरोपी सतीश बाबू साना ने वर्मा को 2 करोड़ रुपये की रिश्वत दी थी.

वर्मा ने अपने खिलाफ लगे आरोपों और सरकार द्वारा अधिकार वापस लेने और छुट्टी पर भेजने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी.

और पढ़ें : CBI विवाद के ये हैं प्रमुख किरदार, जानें इनके रोल

देश की प्रमुख जांच एजेंसी सीबीआई में आंतरिक कलह उस समय सार्वजनिक हो गई जब हैदराबाद के व्यवसायी साना के बयान के आधार पर अस्थाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई.

सीबीआई ने 15 अक्टूबर को साना से दो करोड़ रुपये रिश्वत लेने के आरोप में अस्थाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी. आरोप है कि मीट कारोबारी मोईन कुरैशी के केस को रफ-दफा करने के लिए दो बिचौलियों मनोज प्रसाद और सोमेश प्रसाद के जरिये दो करोड़ रुपये की रिश्वत दी गई.

First Published: Thursday, November 08, 2018 07:05 PM

RELATED TAG: Cbi Vs Cbi, Alok Verma, Cvc, Rakesh Asthana, Cbi Controversy, Cbi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो