विजय माल्या के खिलाफ CBI एक महीने के भीतर दाखिल कर सकती है आरोप पत्र, बैंक अधिकारी भी हो सकते हैं आरोपी

विजय माल्या के खिलाफ केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) एक महीने के भीतर आरोपपत्र (चार्जशीट) दाखिल कर सकती है।

  |   Updated On : September 16, 2018 07:39 PM
विजय माल्या (फाइल फोटो)

विजय माल्या (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

विजय माल्या के खिलाफ केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) एक महीने के भीतर आरोपपत्र (चार्जशीट) दाखिल कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक, जांच एजेंसी भगोड़ा घोषित किए जा चुके शराब कारोबारी विजय माल्या की कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए ऋण से जुड़े बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों को भी मामले में आरोपी बना सकती है।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) की अगुवाई वाले 17 बैंक के समूह द्वारा किंगफिशर को दिये गए 6,000 करोड़ से अधिक के ऋण मामले में यह सीबीआई की ओर से दाखिल की जाने वाली यह पहली चार्जशीट होगी। इसमें स्टेट बैंक ने अकेले 1,600 करोड़ रुपये का कर्ज दिया था।

एजेंसी ने आईडीबीआई बैंक द्वारा दिये गए 900 करोड़ रुपये के बकाया ऋण के एक अलग मामले में पिछले साल माल्या के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया था। इस मामले में बैंक के वरिष्ठ अधिकारी भी कथित तौर पर संलिप्त थे।

सीबीआई ने माल्या के खिलाफ आईडीबीआई ऋण मामले में 2015 में और बैंक के समूह ऋण मामले में 2016 में मामला दर्ज किया था।

अधिकारियों के नाम का खुलासा न करते हुए सूत्रों ने बताया कि बैंकों के समूहों द्वारा दिये गए ऋण की जांच का पहला चरण पूरा हो चुका है और जांच को जारी रखते हुए एक माह के भीतर आरोपपत्र दाखिल किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि किंगफिशर एयरलाइन्स को ऋण देने के मामले में सेवारत और सेवानिवृत्त दोनों तरह के बैंक अधिकारियों को आरोपपत्र में आरोपी बनाया जा सकता है क्योंकि एजेंसी ने उनके खिलाफ पद के दुरुपयोग के मामले में पर्याप्त सबूत जुटाए हैं।

अधिकारी के मुताबिक माल्या और किंगफिशर एयरलाइन्स के तत्कालीन मुख्य वित्तीय अधिकारी ए रघुनाथन सहित पूर्ववर्ती कंपनी के कई पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों को इस मामले में आरोपी बनाया जाएगा।

और पढ़ें : पीएम मोदी-राहुल के मस्जिद, मंदिर जाने पर केजरीवाल का हमला, कहा इससे राष्ट्र निर्माण नहीं होगा

उन्होंने कहा है कि एजेंसी इस मामले में वित्त मंत्रालय के अधिकारियों की भूमिका की भी जांच करेगी जो बैंक कर्मचारियों के निर्णय को प्रभावित करने में शामिल हो सकते हैं। जांच के दौरान एजेंसी ने पर्याप्त मात्रा में प्रमाण जुटाए हैं जिसमें दिखता है कि माल्या ने लोन के पैसों का इस्तेमाल गलत तरीके से किया।

हाल ही में लंदन की वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के बाहर विजय माल्या ने अरुण जेटली से मुलाकात के बयान पर भारतीय मीडिया को सफाई देते हुए कहा था, 'मैंने संसद में अरुण जेटली से मुलाकात की थी और मैंने उन्हें का था कि मैं लंदन जा रहा हूं, मैं बैंकों के साथ लोन विवाद सेटलमेंट करना चाहता हूं। क्या वह बातचीत की सुविधा करवाएंगे? मेरी उनके साथ कोई औपचारिक बैठक नहीं हुई थी। मैं भारत से रवाना हुआ क्योंकि मेरी जिनिवा में एक मुलाकात का कार्यक्रम था। मैंने उनसे बैंकों के साथ सेटलमेंट करने की पेशकश बात दोहराई थी, मैं अक्सर उनसे संसद में मिला करता था।

और पढ़ें : राहुल गांधी के आरोपों पर सीबीआई ने कहा, विजय माल्या के खिलाफ LOC में बदलाव किसी अधिकारी ने नहीं किया

विजय माल्या के इस बयान के बाद केंद्र सरकार पूरी तरह घिर गई थी जिसके बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बयान जारी कर कहा था कि उनकी माल्या के साथ कभी औपचारिक मुलाकात नहीं हुई थी।

लंदन की वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट अदालत विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर 10 दिसंबर को अपना फैसला सुनाएगी। माल्या ने कहा कि वे बैंक में कर्ज को चुकाने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन बैंक उनकी मदद नहीं कर रहे हैं।

First Published: Sunday, September 16, 2018 07:25 PM

RELATED TAG: Vijay Mallya, Cbi, Kingfisher Airlines, Vijay Mallya Case, Sbi, Corruption,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो