BREAKING NEWS
  • रोहिंग्या शरणार्थियों की वापसी में रोड़ा अटका रहे कुछ एनजीओ, जानें कैसे- Read More »
  • PAK को भारत के साथ कारोबार बंद करना पड़ा भारी, अब इन चीजों के लिए चुकाने पड़ेंगे 35% ज्यादा दाम- Read More »
  • मुंबई के होटल ने 2 उबले अंडों के लिए वसूले 1,700 रुपये, जानिए क्या थी खासियत- Read More »

बीजेपी सरकार ने गुर्जर समुदाय के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया था, लेकिन..

News State Bureau  |   Updated On : February 12, 2019 04:07 PM
पटरियों पर कब्‍जा जमाए गुर्जर

पटरियों पर कब्‍जा जमाए गुर्जर

नई दिल्‍ली:  

गुर्जर समाज के इस आंदोलन (Gurjar Andolan) की शैली पुरानी है. वर्ष 2006 में करौली ज़िले के हिण्डोन में गुर्जरों ने रेल पटरियों (Rail Track) पर कब्ज़ा कर लिया था. इससे रेल यातायात (Train rout) ठप हो गया था. इसके बाद 21 मई 2007 को दौसा ज़िले में जयपुर-आगरा राजमार्ग पर गुर्जर जमा हो गए और आंदोलन में हिंसा फूट पड़ी थी. इसमें पीपलखेड़ा पाटोली (PipalKhera Patoli) में 28 लोग मारे गए. 

यह भी पढ़ेंः गुर्जर आंदोलन: आरक्षण की मांग को लेकर रेलवे ट्रैक पर डटे प्रदर्शनकारी, कई ट्रेने रद्द

बता दें राजस्थान ने गुर्जर समुदाय की आबादी 70 लाख है. राज्य में अभी इस समुदाय के आठ विधायक चुने गए हैं. पिछले 13 साल में गुर्जर समुदाय छह बार सड़कों पर उतरा और बड़े बड़े आंदोलन किए. बीजेपी सरकार को चार बार और कांग्रेस सरकार को दो बार गुर्जर आंदोलन का सामना करना पड़ा.

यह भी पढ़ेंः राजस्थान में गुर्जर आरक्षण पर गदर, रेल की पटरी पर बैठे गुर्जर

इसके बाद तत्कालीन बीजेपी सरकार ने जस्टिस जसराज चोपड़ा कमेटी का गठन किया. मगर इस कमेटी से भी आरक्षण का मुद्दा हल नहीं हुआ. वर्ष 2008 में मई का महीना फिर रेल और सड़क मार्गों पर ख़ून बिखेर गया. इस बार भी आंदोलन के दौरान क़रीब तीस लोग हिंसा की भेंट चढ़ गए.

यह भी पढ़ेंः Gurjar Aandolan Live Updates : हिंडौन शहर में गुर्जर आरक्षण आंदोलन के चलते लोगों ने सड़क मार्ग किया जाम

बीजेपी हुकूमत हरकत में आई और गुर्जर समुदाय के लिए पांच प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया. लेकिन यह प्रावधान अदालत की रोक से सिरे नहीं चढ़ा. इस बीच कांग्रेस सत्ता में आ गई और गुर्जर वर्ष 2010 में फिर सड़कों पर उतर आए. सरकार ने पांच फ़ीसदी आरक्षण तजवीज किया. लेकिन इससे आरक्षण की सीमा पचास से ज़्यादा हो गई. चार फ़ीसदी आरक्षण पर हाई कोर्ट ने रोक लगा दी.

यह भी पढ़ेंः तो क्‍या सचिन पायलट गुर्जरों के नेता हैं, सीएम अशोक गहलोत के इस जवाब से तो यही लगता है

गुर्जर समुदाय ने 2015 में वे फिर आंदोलन पर उतर आये. इस पर बीजेपी सरकार ने एक बार फिर 5 प्रतिशत आरक्षण का दाव आजमाया. पर इससे फिर राजस्थान में आरक्षण अपनी 50 प्रतिशत की स्वीकार्य सीमा से आगे चला गया और हाई कोर्ट ने रोक लगा दी.

First Published: Sunday, February 10, 2019 10:46:17 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Pipalkhera Patoli, Gurjar Andolan, Railway Track, Train, Pipalkhera Patoli,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो