BREAKING NEWS
  • राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी का निधन- Read More »
  • टीएमसी मंगलवार को राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण का जवाब देगी- Read More »
  • बाबा राम-रहीम को पैरोल पर रिहा करने के लिए हरियाणा पुलिस ने की सिफारिश, जानिए क्यों- Read More »

बंगाल के डॉक्टरों की हड़ताल दिल्ली, राजस्थान, महाराष्ट्र तक पहुंची, मरीजों को कहीं और ले जाने को कहा

News State Bureau  |   Updated On : June 14, 2019 09:28 AM
दिल्ली एम्स के डॉक्टरों के हड़ताल पर रहने से परेशान मरीज और तीमारदार.

दिल्ली एम्स के डॉक्टरों के हड़ताल पर रहने से परेशान मरीज और तीमारदार.

ख़ास बातें

  •  बंगाल के हड़ताली डॉक्टरों को अब दिल्ली-राजस्थान के डॉक्टरों का समर्थन भी मिला.
  •  कई अन्य राज्यों से भी डॉक्टरों के हड़ताल पर रहने की खबरें.
  •  ममता बनर्जी के तेवरों ने बिगाड़ी स्थितियां

नई दिल्ली.:  

पश्चिम बंगाल में इंटर्न डॉक्टर से मारपीट के बाद शुरू हुई हड़ताल की आंच अब दिल्ली समेत कई अन्य राज्यों तक पहुंच गई है. दिल्ली में कई अस्पतालों के डॉक्टरों ने बंगाल के डॉक्टरों का समर्थन करते हुए शुक्रवार को हड़ताल पर जाने का फैसला किया है. हालांकि राजस्थान के डॉक्टर दो घंटे ओपीडी बंद रखने के बजाय काली पट्टी बांध कर अपना विरोध जताएंगे. एम्स और सफदरजंग के डॉक्टरों ने भी हड़ताल पर जाने का फैसला किया है. एम्स आए मरीजों से किसी और अस्पताल जाने को कहा जा रहा है. कई और राज्यों के डॉक्टरों का भी हड़ताल को समर्थन मिल रहा है. गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में बिगड़े हालात को देखते हुए गुरुवार को डॉक्टरों ने काली पट्टी बांधकर काम किया.

यह भी पढ़ेंः नरेंद्र मोदी सरकार के इस फैसले से 3.6 करोड़ कर्मचारियों को होगा बड़ा फायदा

स्थितियां बिगड़ने का अंदेशा
दिल्ली में हड़ताल के मद्देनजर अस्पताल प्रशासन पहले ही चिंता जाहिर कर चुका है कि ओपीडी में स्थितियां बिगड़ सकती हैं. सबसे चिंतित करने वाली बात यह है कि बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के तेवरों ने स्थितियों को और बिगाड़ दिया है. यही नहीं, अब तो कुछ और राज्यों के डॉक्टर भी बंगाल के रेजिडेंट्स के समर्थन में आ गए हैं. इससे इस बात का डर बढ़ गया है कि ये हड़ताल कहीं देशव्य़ापी रूप न ले ले.

यह भी पढ़ेंः बिहार: अज्ञात हमलावरों ने 2 RJD नेताओं को मारी गोली, हालत गंभीर

ममता बनर्जी के तेवरों से मामला बिगड़ा
गुरुवार को एक नाटकीय घटनाक्रम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चार घंटे में हड़ताल खत्म करने का अल्टीमेटम डॉक्टरों को दिया था. इसके बाद डॉक्टरों ने इस्तीफे देने शुरू कर दिए. डॉक्टरों ने दो टूक कह दिया कि सीएम धमकी दे रही है. बाजी पलटते देख ममता बनर्जी को अपील करने की नौबत आ गई. उन्होंने मेडिकल कॉलेज के सीनियर डॉक्टरों/प्रोफेसरों और अस्पतालों को पत्र लिखकर कहा, "कृप्या सभी मरीजों की देखभाल करें, गरीब लोग सभी जिलों से आ रहे हैं.अगर आप अस्पतालों का ध्यान रखते हैं तो मैं आभारी एवं सम्मानित महसूस करूंगी. वे आसानी और शांति से चलने चाहिए."

यह भी पढ़ेंः World Cup 2019: इंग्लैंड के लिए आसान नहीं होगा विंडीज से सामना

हड़ताल की वजह है यह
बताते हैं कि मंगलवार को एक मरीज की मौत के बाद उसके परिजनों ने एक इंटर्न डॉक्टर के साथ मारपीट कर दी थी. इससे नाराज अन्य डॉक्टरों ने बुधवार सुबह नौ बजे से रात नौ बजे तक काम पूरी तरह से बंद कर दिया. हालांकि, इमरजेंसी डिपार्टमेंट खुला हुआ था. डॉक्टरों की उपस्थिति काफी कम होने के कारण मरीजों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा था. सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों की हड़ताल में अब निजी डॉक्टर भी शामिल हो गए हैं.

First Published: Friday, June 14, 2019 08:54 AM

RELATED TAG: Bengal, Doctors Strike, Delhi Doctors, Support, Patients, Ire, Mamta Banarjee, Kolkata, Intern,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो