BREAKING NEWS
  • रोहिंग्या शरणार्थियों की वापसी में रोड़ा अटका रहे कुछ एनजीओ, जानें कैसे- Read More »
  • PAK को भारत के साथ कारोबार बंद करना पड़ा भारी, अब इन चीजों के लिए चुकाने पड़ेंगे 35% ज्यादा दाम- Read More »
  • मुंबई के होटल ने 2 उबले अंडों के लिए वसूले 1,700 रुपये, जानिए क्या थी खासियत- Read More »

अटल बिहारी वाजपेयी के भाषण से अधिक ताकत उनके मौन में थी: पीएम नरेंद्र मोदी

News State Bureau  |   Updated On : February 12, 2019 01:32 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (ANI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (ANI)

नई दिल्ली:  

संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आदमकद प्रतिमा लगा दी गई है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनकी प्रतिमा का अनावरण किया. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उपस्‍थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा, संसद भवन के सेंट्रल हॉल में अब अटल जी इस नए रूप में हम लोगों को आशीर्वाद देंगे. उन्‍होंने कहा, अटल जी के बारे में घंटों तक बोला जा सकता है पर बात पूरी नहीं होगी. दशकों तक सत्ता से दूर रहने के बाद भी लोगों की सेवा करना आम आदमी की आवाज बुलंद करना उनकी राजनीति की शैली थी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, अटल जी के जीवन से बहुत कुछ सीखा जा सकता है. उनके भाषण की बहुत चर्चा होती है, जितनी ताकत उनके भाषण में थी, उससे कई गुना ताकत उनके मौन में थी. कब बोलना है कब मौन रहना है, ये उनकी खासियत थी. व्यंग करना भी उनके व्यक्तित्व का हिस्सा था. इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और संसद के सदस्‍य मौजूद रहे. अटल जी के परिवार के सदस्य भी सेंट्रल हॉल में मौजूद रहे.

बता दें कि भाजपा के कद्दावर नेता अटल बिहारी वाजपेयी 1996 में 13 दिन, फिर 1998-99 में 13 महीने और 1999-2004 तक देश के प्रधानमंत्री रहे. वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था. लंबी बीमारी के बाद एम्स में 16 अगस्त 2018 को वाजपयी का निधन हो गया था.

संसद के सेंट्रल हॉल में पूर्व प्रधानमंत्री की प्रतिमा लगाने का फैसला 18 दिसंबर को संसद की पोरट्रेट कमेटी की बैठक में हुआ था. लोकसभा की स्पीकर की अध्यक्षता में हुई बैठक में डिप्टी स्पीकर एम थम्बी दुरई, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, बीजद के बी माहताब, टीएमसी के सुदीप बंदोपाध्याय, टीआरएस जितेंद्र रेड्डी, शिवसेना के अनंत गीते और भाजपा के सत्यनारायण जटिया शामिल हुए थे. सभी ने सर्वसम्मति से वाजपेयी की प्रतिमा लगाने का निर्णय लिया था. सेंट्रल हॉल में पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की प्रतिमाएं पहले से ही लगी हुई हैं.

First Published: Tuesday, February 12, 2019 11:10:09 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Atal Bihari Vajpayee, Pm Narendra Modi, Portrait, Parliament, Central Hall,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो