Airbus घोटाला : सिंगापुर फर्म के साथ बिचौलिया दीपक तलवार के खाते में डाले 10.5 मिलियन डॉलर

News State Bureau  |   Updated On : February 13, 2019 02:21:21 PM

(Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

मनमोहन सिंह सरकार (Manmohan Singh Government) में एयरबस (Airbus Scam) से खरीदे गए 43 एयरक्राफ्ट में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी Enforcement Directorate) ने बड़ा खुलासा किया है. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, इस मामले में बिचौलिये दीपक तलवार (Deepak Talwar) के बैंक एकाउंट में 10.5 मिलियन यूएस डॉलर ट्रांसफर किए गए. मनमोहन सरकार में एयर इंडिया (Air India) ने कुल 111 विमान खरीदे थे, जिसमें 43 एयरबस के थे. जबकि इतने विमानों की जरूरत ही नहीं थी. खुलासा हुआ है कि मनमोहन सरकार के कुछ नेताओं ने एयर बस से इसके बदले में दलाली की रकम खायी थी. मोदी सरकार ने इस मामले की जांच कराई तो बड़ा घोटाला सामने आया. ईडी की जांच में पता चला कि दो बार में 10.5 मिलियन डॉलर ट्रांसफर किए गए थे। अकट्स कैपिटस पीटीआई लिमिटेड के बैंक खाते में पहले 4.5 मिलियन और फिर 6 मिलियन डॉलर डाले गए. इसके बाद एयरलाइन और एयरबस के बीच यह डील हुई थी.

यह भी पढ़ें ः भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण विफल हुआ एयरबस सौदा?

गौरतलब है कि घोटाला और हजारों करोड़ रुपये की हेराफेरी करने वाले दीपक तलवार के खिलाफ सीबीआई जांच से मनमोहन सरकार के दौरान उड्डयन और रक्षा सौदे से जुड़े बड़े घोटाले का पर्दाफाश हुआ है. मनमोहन सरकार के दौरान जबरदस्ती बिना जरुरत के देश की जनता के टैक्स के पैसों से विमान खरीदे गए और बीच में दलाली खायी गयी. किसी को शक ना हो, इसके लिए यूरोपियन कंपनी एयर बस ने दलाली की रकम को बतौर फंडिंग एक एनजीओ को भेज दिए. सीबीआई की एफआईआर फिलहाल तलवार के एनजीओ में आए 90 करोड़ रुपये की विदेशी सहायता के दुरुपयोग पर आधारित है. बता दें कि सीबीआई के अलावा आयकर विभाग भी दीपक तलवार के खिलाफ पहले से जांच कर रहा है. इसमें तलवार के देश-विदेश में फैले कई ट्रस्ट और कंपनियों का पता चला है, जिनमें 1000 करोड़ रुपये से अधिक का लेनदेन हुआ है.

यह भी पढ़ें ः हवाई यात्रियों की सुरक्षा पर DGCA का बड़ा फैसला, खामी वाले इंजनों पर लगाया बैन

बिना जरुरत के खरीद लिए विमान, खायी दलाली
विदेशी मुद्रा में हुए इन सभी लेन-देन के मामलों की ईडी भी फेमा के तहत जांच कर रहा है. मगर, पहली बार तलवार के खिलाफ विदेशी फंड के दुरुपयोग का आपराधिक मामला दर्ज हुआ है. इसके आधार पर ईडी अब उसके खिलाफ मनी लांड्रिंग रोकथाम कानून के तहत केस दर्ज करने की तैयारी कर रही है और सीबीआई से एफआईआर की प्रति मांगी है.

First Published: Feb 13, 2019 02:02:36 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो