ब्रह्मोस मिसाइल से लैस होगी 40 सुखोई फाइटरजेट, वायुसेना की बढ़ेगी ताकत

भारतीय वायु सेना की महत्वपूर्ण जरूरतों को पूरा करने के लिए देश के 40 सुखोई विमानों में तब्दीली का काम शुरू किया जा रहा है।

  |   Updated On : December 17, 2017 06:59 PM
ब्रह्मोस मिसाइल (फाइल)

ब्रह्मोस मिसाइल (फाइल)

New Delhi:  

भारतीय वायु सेना की महत्वपूर्ण जरूरतों को पूरा करने के लिए देश के 40 सुखोई विमानों में तब्दीली का काम शुरू किया जा रहा है। इन तब्दीलियों के बाद इन विमानों से सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों को लॉन्च किया जा सकेगा।

दरअसल 22 नवंबर को सुखोई-30 लड़ाकू विमान से वायु में वार करने वाली दुनिया की सबसे तेज रफ्तार सुपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया था।

इस परीक्षण के साथ ही भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है।

और पढ़ें: अब सरकार से बड़े आर्थिक सुधार की उम्मीद होगी बेमानी: एसोचैम

रिपोर्ट्स के मुताबिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 40 सुखोई विमानों को ब्रह्मोस को प्रक्षेपित करने के लिए तैयार करने का काम शुरू हो गया है। उन्होंने बताया कि इस परियोजना की समय सीमा 2020 तक रखी गई है।

ब्रह्मोस के प्रक्षेपण के लायक बनाने के लक्ष्य से सरकारी हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) में इन 40 विमानों में जरूरी संरचनात्मक बदलाव किए जाएंगे।

बता दें कि इस मिसाइल की स्पीड साउंड से तीन गुना ज्यादा होती है और मैक से 2.8 की गति से चलता है। इसकी मारक क्षमता 250 किलोमीटर है।

और पढ़ें: वर्ल्ड सुपर सीरीज बैडमिंटन फाइनल्स, दुबई वर्ल्ड सुपरसीरीज में खिताबी जीत से चूकीं सिंधु

First Published: Sunday, December 17, 2017 05:32 PM

RELATED TAG: Sukhoi, Sukhoi Aircraft, Modification, Brahmos Supersonic Cruise Missile, Cruise Missile, Missile,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो