छात्रों की 'गलती' से दिल्ली यूनिवर्सिटी का भरा खजाना, कमाए 3 करोड़ रुपए

दिल्ली विश्वविद्यालय (DU) ने 2015-16 और 2017-18 के बीच छात्रों द्वारा उनकी उत्तर पुस्तिका के पुनर्मूल्यांकन व पुनर्जांच(कॉपी रीचेक) और उन्हें उसकी प्रतियां मुहैया कराने के लिए छात्रों से तीन करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई की है।

  |   Updated On : September 01, 2018 06:13 PM
कॉपी रीचेकिंग से डीयू का भरा खजाना

कॉपी रीचेकिंग से डीयू का भरा खजाना

नई दिल्ली:  

दिल्ली विश्वविद्यालय (DU) ने 2015-16 और 2017-18 के बीच छात्रों द्वारा उनकी उत्तर पुस्तिका के पुनर्मूल्यांकन व पुनर्जांच(कॉपी रीचेक) और उन्हें उसकी प्रतियां मुहैया कराने के लिए छात्रों से तीन करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई की है। एक आरटीआई (RTI) अर्जी पर मिले जवाब से इस बात का खुलासा हुआ है।

यूनिवर्सिटी की ओर से कराई गई जानकारी के मुताबिक, उसने 2015-16 और 2017-18 के बीच अकेले पुनर्मूल्यांकन (रीचेक) से 2,89,12,310 रुपये कमाए हैं। इसी समय में पुनर्जांच से 23,29,500 और छात्रों को उनकी मूल्यांकित उत्तर पुस्तिका की प्रति मुहैया कराने के लिए 6,49,500 रुपये वसूले गए हैं।

और पढ़ें : NIOS D.El.Ed result 2018: डीएलएड परीक्षा के नतीजे घोषित, ऐसे करें चेक

रीचेक के लिए देने होते हैं इतने रुपए
विश्वविद्यालय के नियमों के मुताबिक, छात्रों को एक कॉपी के पूनर्मूल्यांकन के लिए एक हजार रुपये और उत्तर पुस्तिका की पुनर्जांच के लिए 750 रुपये देने होते हैं। इसमें केवल अंकों की दोबारा गणना होती है। साथ ही उत्तर पुस्तिका की प्रति प्राप्त करने के लिए भी छात्रों को 750 रुपये चुकाने होते हैं।

छात्र ने दायर की आरटीआई
कानून के एक पूर्व छात्र ने बताया, 'मैंने 2016 में अपनी उत्तर पुस्तिका के निरीक्षण की मांग करते हुए आरटीआई अर्जी दायर की थी। मेरी याचिका दो सालों के लिए रोक दी गई और उसके बाद मैंने केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) का सहारा लिया, जिसने विश्वविद्यालय को आरटीआई की धारा 2 (जे) के तहत उत्तर पुस्तिका की जांच का आदेश दिया।'

उन्होंने कहा, 'विश्वविद्यालय ने हालांकि अभी मुझे मेरी उत्तर पुस्तिका दिखाने के लिए नहीं बुलाया है। कहा गया है कि वे मामले को उच्च न्यायालय ले जाएंगे।'

आरटीआई की धारा 2 (जे) के तहत कोई भी व्यक्ति किसी सार्वजनिक प्राधिकरण के तहत रखे गए रिकॉर्ड को हासिल कर सकता है, जिसमें निरीक्षण, नोट्स, निष्कर्ष अन्य उद्देश्य शामिल हैं।

यूनिवर्सिटी की गलती पर भुगतान नहीं
आवेदक ने कहा कि उसे अपनी उत्तर पुस्तिका की जांच की इजाजत दे गई है और अगर कोई भी अंतर पाया जाता है तो वह दोबारा गणना-पुनर्मूल्यांकन के लिए कह सकते हैं, जिसे विश्वविद्यालय को मुफ्त में ठीक करना होगा, क्योंकि वह विश्वविद्यालय द्वारा की गई गलतियों के लिए भुगतान करने को बाध्य नहीं है।

गलती को बिना कीमत ठीक करने की हो बाध्यता
उन्होंने कहा, 'यह एक गंभीर जनहित का मुद्दा है। हर कोई इतना अमीर नहीं कि वह पूनर्मूल्यांकन के लिए एक हजार रुपये या 750 रुपये चुकाए। यह ठीक भी है कि अगर कोई अंतर पाया जाता है तो विश्वविद्यालय को उसे बिना किसी कीमत के ठीक करने के लिए बाध्य होना चाहिए। वे (विश्वविद्यालय प्रशासन) अपनी गलतियों के लिए छात्रों से भुगतान करा रहे हैं।'

सीआईसी ने 18 अगस्त के अपने फैसले में दिल्ली विश्वविद्यालय को व्यापक जनहित में आवेदक को उसकी उत्तर पुस्तिका जांचने की इजाजत देने को कहा था।

यहां पढ़ें देश-दुनिया की बड़ी खबरें

CIEC के पास पहुंचा मामला

सीआईसी के फैसले के बाद भी उत्तर पुस्तिका जांचने की इजाजत नहीं देने पर दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र ने एक और आरटीआई के माध्यम से विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी से संपर्क किया, जिसने उन्हें बताया कि विश्वविद्यालय की परीक्षा शाखा ने फैसले को चुनौती देने का फैसला किया है।

इससे पहले विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने सीआईसी के समक्ष दावे के साथ कहा था कि वे आरटीआई अधिनियम, 2005 के प्रावधानों के तहत उत्तर पुस्तिका की जांच की इजाजत देने के खिलाफ हैं।

और पढ़ें : SBI का लोन हुआ महंगा, बढ़ जाएगा किस्‍त का बोझ

First Published: Saturday, September 01, 2018 06:03 PM

RELATED TAG: Delhi University, Re-evaluation Fee, Exam, Du,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो