BREAKING NEWS
  • प्रयागराज में गंगा-यमुना का रौद्र रूप देख खबराए लोग, खतरे के निशान से महज एक मीटर नीचे है जलस्तर- Read More »
  • जरूरत पड़ी तो UP में भी लागू करेंगे NRC, मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का बड़ा बयान- Read More »
  • India's First SC-ST IAS Officer: जानिए देश के पहले SC-ST आईएएस की कहानी- Read More »

World Suicide Prevention Day: हर 40 सेकेंड में एक व्‍यक्ति कर लेता है खुदकुशी, आत्‍महत्‍या की ये हैं वजहें

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : September 10, 2019 05:44:27 PM

नई दिल्‍ली:  

विश्व आत्महत्या (Suicide) रोकथाम दिवस (World Suicide Prevention Day) के लिए 10 सितंबर को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि आत्महत्या (Suicide) पर डब्ल्यूएचओ (WHO)की पहली वैश्विक रिपोर्ट के प्रकाशन के बाद से पांच वर्षों में राष्ट्रीय आत्महत्या (Suicide) रोकथाम लगाने वाले देशों की संख्या में वृद्धि हुई है. आज हर 40 सेकेंड में एक व्‍यक्‍ति अपनी जान दे देता है. डब्ल्यूएचओ की स्टडी बताती है कि उन देशों में लोग आत्महत्या ज्यादा करते हैं जो प्रति व्यक्ति आय कम हैं, जिससे साफ हो जाता है कि आत्म हत्या के पीछे आर्थिक स्थिति सबसे बड़ा फैक्टर है. इसके साथ ही 15 से 29 वर्ष की आयु वर्ग में मौत के सबसे ज्यादा मामले देखने को मिल हैं. जो यह बताता है कि युवा अवस्था में सहनशक्ति कम होने के कारण आत्महत्या के मामले ज्यादा है.

यह भी पढ़ेंः World Suicide Prevention Day: अवसाद और आत्महत्या के इन संकेतों को जान लें

डब्लूएचओ के महानिदेशक डॉ टेड्रोस अदनोम के मुताबिक हर 40 सेकंड में आत्महत्या (Suicide) के कारण एक व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है,". उन्‍होंने कहा, “हर मौत परिवार, दोस्तों और मरने वाले के सहकर्मियों के लिए एक त्रासदी है. फिर भी आत्महत्या (Suicide)एं रोकी जा सकती हैं. हम सभी देशों से स्थायी रूप से राष्ट्रीय स्वास्थ्य और शिक्षा कार्यक्रमों में सिद्ध आत्महत्या (Suicide) रोकथाम रणनीतियों को शामिल करने का आह्वान करते हैं. ”

निम्‍न आय वाले देशों में आत्महत्या (Suicide) की दर उच्चतम

वैश्विक आयु-मानकीकृत आत्महत्या (Suicide) दर 100000 में 10.5 थी. यह अलग-अलग देशों में रहने वाले लोगों की लाइफ स्‍टाइल के मुताबिक भिन्‍न-भिन्‍न है. प्रति 100000 में 5 से लेकर 30 मृत्‍यु तक है. जबकि 79 फीसद आत्महत्या (Suicide) निम्न और मध्यम आय वाले देशों में हुईं, उच्च आय वाले देशों में उच्चतम दर 11.5 प्रति 100 000 थी. उच्च आय वाले देशों में महिलाओं की आत्महत्या (Suicide) करने की दर पुरुषों के मुकाबले लगभग तीन गुना है.

सड़क हादसों में मौत के बाद 15-29 वर्ष की आयु के युवाओं में आत्महत्या (Suicide) का दूसरा प्रमुख कारण था. 15-19 वर्ष की आयु की लड़कियों द्वारा आत्महत्या (Suicide) मृत्यु का दूसरा प्रमुख कारण है. आत्महत्या (Suicide) के सबसे आम तरीके हैंगिंग, पेस्टीसाइड सेल्फ-पॉइजनिंग और आग्नेयास्त्र हैं.

First Published: Sep 10, 2019 05:44:27 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो