BREAKING NEWS
  • हरियाणा सरकार करवाना चाहती है राम रहीम-हनीप्रीत मुलाकात, जानिए क्या है वजह- Read More »

बच्चों में कैंसर का कारण बन रहे 33 हजार जॉनसन बेबी पाउडर (Johnson Baby Powder) मार्केट से वापस

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : October 19, 2019 02:24:05 PM
जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson And Johnson)-बेबी पाउडर (Baby Powder)

जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson And Johnson)-बेबी पाउडर (Baby Powder) (Photo Credit : फाइल फोटो )

दिल्ली:  

जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson And Johnson) ने मार्केट से 33,000 बेबी पाउडर (Johnson Baby Powder) की खेप को वापस मंगा लिया है. दरअसल, अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की जांच में बेबी पाउडर में कैंसरकारक (Cancer) एस्बेस्टस (Asbestos) के सबूत मिले हैं. जांच के खुलासे के बाद कंपनी ने अपने इस उत्पाद की इतनी बड़ी खेप को वापस मंगा लिया है. हालांकि यह पहला मामला है जब कंपनी ने अपने किसी उत्पाद को वापस मंगाने का फैसला किया है.

यह भी पढ़ें: IMF ने नरेंद्र मोदी सरकार के इस फैसले को सही ठहराया, कहा होगा बड़ा फायदा

कंपनी ने कई महीने तक कैंसरकारक तत्व की मौजूदगी को नकारा
न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के मुताबिक कंपनी कई महीने तक बेबी पाउडर में कैंसर पैदा करने वाले तत्व की मौजूदगी को नकारती रही थी, लेकिन अब जांच में खुलासा होने के बाद कंपनी ने 33,000 बेबी पाउडर की खेप को मार्केट से वापस मंगा लिया है. कंपनी का कहना है कि रेग्युलेटर को ऑनलाइन रिटेलर से खरीद गए बेबी पाउडर के सैंपल में क्राइसोटाइल एस्बेस्टस की जानकारी मिली है. बता दें कि कैंसरकारक तत्व पाए जाने की खबर के बाद शुक्रवार को कंपनी को शेयर में भारी गिरावट दर्ज की गई. शुक्रवार को कंपनी का शेयर 4.6 फीसदी लुढ़क गया.

यह भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस (Post Office) की इस सर्विस के जरिए घर बैठे कर पाएंगे मोटी बचत

कंपनी के प्रवक्ता के मुताबिक कंपनी को जानकारी मिलने के बाद #22318RB लॉट को मार्केट से वापस मंगा लिया गया है. बता दें कि इस लॉट में करीब 33,000 बेबी पाउडर की बोतल थीं. प्रवक्ता का कहना है कि पिछले 40 वर्ष से हजारों टेस्ट में यह बात साबित हुई है कि हमारे बेबी पाउडर में एस्बेस्टस बिल्कुल भी नहीं है. कंपनी का कहना है कि हम उत्पाद की जांच कर रहे हैं. बता दें कि कंपनी पर इसके पहले भी पाउडर में कैंसरकारक तत्व पाए जाने के आरोप लगे हैं. इस समय कंपनी के ऊपर इस तरह के करीब 15,000 से अधिक मामले दर्ज हैं.

First Published: Oct 19, 2019 02:14:39 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो