सरोगेसी के जरिए मां बनने वाली महिला कर्मचारियों को मिलेगी मेटरनिटी लीव

कोर्ट ने केंद्रीय विद्यालय की टीचर की याचिका पर यह फैसला सुनाया है। टीचर को सरोगेसी के जरिए जुड़वा बच्चे पैदा हुए, लेकिन उन्हें मेटरनिटी लीव देने से मना कर दिया गया।

  |   Updated On : February 08, 2018 03:00 PM

नई दिल्ली:  

अब सरोगेसी के जरिए मां बनने वाली केंद्र सरकार की महिला कर्मचारियों को भी मेटरनिटी लीव मिलेगी। कार्मिक मंत्रालय के एक आधिकारिक आदेश के मुताबिक इसके लिए मंजूरी दे दी गई है।  

कोर्ट ने केंद्रीय विद्यालय की टीचर की याचिका पर यह फैसला सुनाया है। टीचर को सरोगेसी के जरिए जुड़वा बच्चे पैदा हुए, लेकिन उन्हें मेटरनिटी लीव देने से मना कर दिया गया। उनसे कहा गया कि वह बच्चे को जन्म देने वाली मां नहीं बनी है। 

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा, 'एक महिला कर्मचारी, जो सरोगेसी के जरिए मां बनी है, वह मातृत्व अवकाश के लिए आवेदन करने की हकदार होगी।'

महिला कर्मचारी 26 महीनों (लगभग 180 दिन) तक भुगतान पर मातृत्व का लाभ उठा सकती हैं। मंत्रालय ने केंद्र सरकार के सभी विभागों को इस मुद्दे पर 2015 के उच्च न्यायालय के आदेश के बारे में लिखा है।

ये भी पढ़ें: अयोध्या विवाद: CJI ने कहा, पूरे मामले को भूमि विवाद की तरह से देखा जाए

First Published: Thursday, February 08, 2018 02:50 PM

RELATED TAG: 26 180,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो