International Yoga Day 2018: योग के बाद अब अमेरिका की आयुर्वेद में बढ़ रही है दिलचस्पी

योग के बाद अब आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा के प्रति पश्चिमी देशों में दिलचस्पी बढ़ रही है।

  |   Updated On : June 21, 2018 11:09 AM
फाइल फोटो

फाइल फोटो

नई दिल्ली:  

योग के बाद अब आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा के प्रति पश्चिमी देशों में दिलचस्पी बढ़ रही है। अमेरिका के कैलिफोर्निया में 22 जून से शुरू हो रहे इंडो-यूएस वेलनेस समागम में बड़ी संख्या में भारतीय संस्थान, कंपनियां और विशेषज्ञ हिस्सा लेने जा रहे हैं, जो वहां आयुर्वेद, योग, हर्बल, प्राकृतिक चिकित्सा से जुड़े अपने उत्पाद प्रदर्शित करेंगे।

अमेरिकी एजेंसियों की ओर से आयोजित होने वाले इस समारोह में भारत का आयुष मंत्रालय भी एक सहयोगी है। इस समारोह में केरल आयुर्वेद, डाबर और एमिल फार्मास्युटिकल जैसी नामी भारतीय कंपनियां भी हिस्सा ले रही हैं।

ये भी पढ़ें: International Yoga Day: कंगना-शिल्पा समेत बॉलीवुड सेलेब्स ने किया योग

यह तीन दिवसीय समारोह 22 से 24 जून के बीच कैलिफोर्निया के सेंट क्लारा कन्वेंसन केंद्र में आयोजित किया जाएगा। अमेरिका के वेलनेस व्यवसाय से जुड़ी कंपनियां इसमें हिस्सा लेंगी। साथ ही समारोह में विशेषज्ञों द्वारा व्याख्यान भी दिए जाएंगे।

भारतीय कंपनियों को इस समागम में अपनी दवाएं और पोषक उत्पादों को प्रदर्शित करने का मौका मिलेगा। आमतौर पर मधुमेह की दवाएं अमेरिका या अन्य विकसित देशों में खोजी जाती हैं और फिर भारत में बिकती हैं। लेकिन यह पहला मौका होगा जब सीएसआईआर द्वारा विकसित मधुमेह रोधी दवा बीजीआर-34 को अमेरिका में प्रदर्शित किया जाएगा।

ये भी पढ़ें: #YogaDay: 18 हजार फीट की ऊंचाई पर ITBP के जवानों ने किया सूर्य नमस्कार

अमेरिका में तीन करोड़ मधुमेह रोगी हैं और वे मधुमेह के इलाज के लिए आयुर्वेद, प्राकृतिक चिकित्सा और योग को वैकल्पिक उपचार के रूप में अपना रहे हैं।

एमिल फार्मास्युटिकल के कार्यकारी निदेशक संचित शर्मा ने कहा, 'वेलनेस रैंकिग में अमरीका 85 स्थान पर है। इसे सुधारने के लिए वह आयुर्वेद और हर्बल उत्पादों की तरफ रुख कर रहा है।'

भारतीय मूल के चिकित्सक डॉ. भगवती भट्टाचार्य ने हाल में एक बयान जारी कर कहा, 'अमरीकियों ने पहले योग को अपनाया, जिससे उन्हें फायदा हुआ। अब वे आयुर्वेद की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। आयुर्वेद एवं प्राकृतिक चिकित्सा को अपनाने के पीछे अमेरिकियों की सोच स्वस्थ बने रहना है। भारतीय आयुर्वेद या हर्बल उत्पादों को अमेरिका में दवा तो नहीं माना जाता, लेकिन स्वस्थ रखने वाले उत्पादों के रूप में उनकी मान्यता खासी बढ़ रही है।' 

ये भी पढ़ें: योग दिवस पर बोले पीएम मोदी, दुनिया को बताया निरोग होने का रास्ता

First Published: Thursday, June 21, 2018 10:30 AM

RELATED TAG: International Yoga Day 2018, Health News,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो