मॉनसून का लें आनंद, लेकिन इन बातों का रखें खास ध्यान

इस मौसम में छोटे बच्चों से लेकर वयस्क भी फ्लू का शिकार होते हैं। इसके अलावा बार-बार बदलते तापमान का भी शरीर पर बुरा असर पड़ता है, इसलिए मानसून का आनंद लेने के साथ-साथ खुद को स्वस्थ रखना भी जरूर है।

  |   Updated On : July 20, 2018 08:41 AM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:  

मॉनसून के मौसम का आनंद हर उम्र के लोग लेना चाहते हैं। क्या बच्चे, क्या बूढ़े सब खिल उठते हैं, और प्रकृति की खूबसूरती तो देखते ही बनती है। पर क्या आप जानते हैं कि भारत में मानसून अपने साथ फ्लू जैसी बीमारियां भी लेकर आता है। इस मौसम में छोटे बच्चों से लेकर वयस्क भी फ्लू का शिकार होते हैं। इसके अलावा बार-बार बदलते तापमान का भी शरीर पर बुरा असर पड़ता है, इसलिए मानसून का आनंद लेने के साथ-साथ खुद को स्वस्थ रखना भी जरूर है।

मॉनसून में होने वाली बीमारियों और उनसे कैसे बचा जाए बता रही हैं, नई दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स में इंटरनल मेडिसीन सीनियर कंसल्टेंट डॉ. तरुण साहनी:

किन उम्र के लोगों को रहना है ज्यादा सावधान-

  • फ्लू का संक्रमण हालांकि जानलेवा नहीं होता, लेकिन छोटे बच्चों और बुजुर्गो में इसके कारण कई समस्याएं हो सकती हैं। खासतौर पर उन लोगों पर इसका बुरा असर पड़ता है, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली/इम्यून सिस्टम कमजोर हो।

क्या हैं लक्षण-

  • मानसून में होने वाला फ्लू दो सप्ताह में ठीक हो जाता है, लेकिन कुछ समय के लिए इसके लक्षण बहुत ज्यादा परेशान कर सकते हैं। इसके कुछ आम लक्षण हैं- तेज बुखार, पसीना आना, कंपकंपी छूटना, लगातार खांसी, नाक बहना, शरीर में दर्द, त्वचा पर रैश वगैरह।

और पढ़ें- थॉयराइड से ब्रेन डैमेज का खतरा, बरतें सावधानी

कैसे बचें-

  • इस सीजन में अपने आप को संक्रमण(इंफेक्शन) से बचाएं। जिन चीजों को लोग ज्यादा छूते हैं, वहां पर रोग के जीवाणु (बैक्टीरिया) बहुत जल्दी पनपते हैं। हवा के जरिए भी सांस से ये जीवाणु एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाते हैं। लेकिन सावधानी बरतने से फ्लू की संभावना को कम किया जा सकता है।
  • खाना खाने से पहले हाथ धोना बहुत जरूरी है, क्योंकि ये जीवाणु शारीरिक संपर्क से फैलते हैं। नियमित रूप से व्यायाम करें, इससे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम) मजबूत बनती है। खूब पानी पीएं, सेहतमंद और पोषक आहार लें। स्वास्थ्यप्रद भोजन खाने से प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। इन्फ्लुएंजा से बचने के लिए वैक्सीन उपलब्ध है, लेकिन यह उन्हीं लोगों को देनी चाहिए जिनमें संक्रमण की आशंका अधिक हो।

इन बातों का रखें ध्यान-

  • बुखार और शरीर के दर्द को कम करने के लिए दवाएं ली जा सकती हैं। कफ ड्रॉप खांसी से राहत देते हैं, लेकिन अगर लक्षण बहुत ज्यादा परेशान कर रहे हैं तो डॉक्टर से सलाह लें। मानसून में सेकेंडरी इन्फेक्शन भी हो सकता है। ऐसे मामलों में दोस्तों, इंटरनेट की सलाह से दवाएं लेने बजाए डॉक्टर से सलाह लें। आराम करें, कम से कम 8 घंटे की नींद लें। मानसून फ्लू के संक्रमण को ठीक करने के लिए आराम करना बहुत जरूरी है।

और पढ़ें- आइस क्यूब से निखारें सुंदरता, अपनाएं ये आसान घरेलू टिप्स

First Published: Friday, July 20, 2018 07:46 AM

RELATED TAG: Monsoon, Rainfall, Flu Diesease, Symptoms, Precautions,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो