एयर पॉल्यूशन के कारण 20 सालों में नॉन स्मोकर्स में बढ़ा लंग कैंसर का खतरा-विशेषज्ञ

सिर्फ स्मोकर्स ही नहीं नॉन स्मोकर्स भी लंग कैंसर का शिकार होते जा रहे हैं।

  |   Updated On : October 13, 2017 08:50 AM

नई दिल्ली:  

एयर पॉल्यूशन देश की सबसे बड़ी समस्या होती जा रही है। जिसके कारण सिर्फ स्मोकर्स ही नहीं नॉन स्मोकर्स भी लंग कैंसर का शिकार होते जा रहे हैं।

दिल्ली के गंगाराम अस्पताल के चेस्ट सर्जरी एंड लंग ट्रांसप्लांटेशन के चेयरमैन अरविंद कुमार का मानना है हैं कि दिल्ली का पॉल्यूशन लेवल चरम पर हैं, ऐसे में पटाखों पर बैन एक सही फैसला है। 

डॉ. अरविंद कुमार ने कहा, 'पटाखों के कारण सेहत को बहुत नुकसान होता है। फेफड़ों में जो कुछ भी जमा हो जाता है उसे साफ करने के लिए कोई इलाज नहीं है। पिछलों 20 सालों में लंग कैंसर के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी गई है। अब कैंसर के सभी मामलों यह सबसे ऊपर आ गया है।'

आज 90 प्रतिशत स्मोकर्स में फेफड़ों का कैंसर देखा जा रहा है, लेकिन 40 प्रतिशत नॉन स्मोकर्स को भी फेफड़े का कैंसर हो रहा है। ये लोग भले ही सिगरेट पीते नहीं, लेकिन सांस के जरिए वैसा ही धुआं ले रहे हैं।

डॉ कुमार ने कहा कि आज ये हालात होते जा रहें है कि जन्म के साथ ही बच्चे प्रदूषित हवा में सांस ले रहा हैं। पॉल्यूशन का समाधान हमारे पास ही है, ऐसे में इस फैसले को खुशी के साथ स्वीकार करना चाहिए।

लंग कैंसर के शुरूआती लक्षण टीबी की तरह होते हैं। सही समय पर बीमारी की पहचान नहीं होने के कारण 80 से 90 प्रतिशत मरीज इलाज के लिए देरी से पहुंचते हैं।

इसे भी पढ़ें: यूरीन इंफेक्शन के एंटीबायोटिक प्रतिरोधक बैक्टीरिया की पहचान अब 30 मिनट में

First Published: Friday, October 13, 2017 08:20 AM

RELATED TAG: Lung Cancer,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो