BREAKING NEWS
  • Ind Vs Pak: मैन ऑफ द मैच रोहित शर्मा का बल्‍ला गरजा तो बादलों ने साध ली चुप्‍पी, जानें 7-0 से जीत के सभी नायकों को- Read More »
  • IND vs PAK Live Cricket Score: बारिश के बाद 40 ओवर का हुआ मैच, पाकिस्तान को 5 ओवर में चाहिए 130 रन- Read More »
  • IND Vs Pak: 31-35 ओवर की कहानीः पाकिस्‍तान पर 7-0 की लीड लेने में 4 विकेट दूर इंडिया- Read More »

मायावती ने चुनाव आयोग के खिलाफ खोला मोर्चा, कहा- दलित विरोधी मानसिकता से ग्रस्त फैसला, हमारे अधिकारों से वंचित किया

News State Bureau  |   Updated On : April 15, 2019 10:31 PM
बीएसपी सुप्रीम मायावती (फोटो:ANI)

बीएसपी सुप्रीम मायावती (फोटो:ANI)

नई दिल्ली:  

लोकसभा चुनाव के प्रचार अभियान के दौरान विवादित टिप्पणी करने पर निर्वाचन आयोग ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और बीएसपी सुप्रीमो मायावती के चुनाव प्रचार करने पर 72 और 48 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया है. चुनाव आयोग के इस कार्रवाई के बाद मायावती ने सोमवार यानी आज रात लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस प्रतिबंध पर सवाल खड़ा किया.

मायावती ने कहा, '11 अप्रैल को चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस में आरोप नहीं लगाया था कि हमने उकसाने वाला भाषण दिया था. इसमें केवल एक आरोप था कि हम एक विशेष समुदाय के नाम पर वोट मांग रहे थे. चुनाव आयोग ने एकतरफा फैसला दिया. मुझे बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार से वंचित कर दिया गया है. इस दिन को चुनाव आयोग के इतिहास में एक काले दिन के रूप में जाना जाएगा.'

इसके साथ ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी के बयान को लेकर मायावती ने कहा कि आयोग ने साफ कहा है कि राजनीतिक लाभ के लिए सेना का इस्तेमाल नहीं करना है, लेकिन मोदी और बीजेपी नेता लगातार ऐसा कर रहे हैं और आयोग इनपर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. आचार संहिता के उल्लंघन का सीधा आरोप मोदी पर है, लेकिन चुनाव आयोग उनपर कार्रवाई नहीं करता है, जबकि मुझे बलि का बकरा बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ, मायावती के बाद चुनाव आयोग ने आजम खान और मेनका गांधी पर लगाया प्रतिबंध

मायावती ने आगे कहा, 'मंगलवार को गठबंधन की संयुक्त रैली है, जिसमें चुनाव आयोग की दलित विरोधी मानसिकता की वजह से मैं हिस्सा नहीं ले पाउंगी. लेकिन मैं लोगों से अपील करती हूं कि इस रैली को कामयाब बनाना है. मेरे कल रैली में ना होने से लोग निराश ना हो. चुनाव होने के बाद सरकार बनने के बाद मैं सबसे पहले आगरा और फतेहपुर के लोगों से ही मिलने आऊंगी.'

इसके साथ ही मायावती ने कहा कि मेरी रैलियों में हो रही भीड़ से बीजेपी डरी हुई है इसलिए मुझे रोकने के लिए चुनाव आयोग का सहारा लिया है.

First Published: Monday, April 15, 2019 10:31 PM

RELATED TAG: Mayawati, Election Campaign, Election Commission, Ban, Bsp,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो