BREAKING NEWS
  • इलाहाबाद HC ने पीएम नरेंद्र मोदी का जारी किया नोटिस, जानें क्या है मामला- Read More »
  • EPFO में ब्याज कम करने वाले वित्त मंत्रालय के प्रस्ताव को श्रम मंत्रालय ने किया खारिज, जानें क्यों- Read More »
  • बिहार : बाढ़ पीड़ितों ने की मुआवजे की मांग, सीओ को सड़क पर दौड़ा-दौड़ा कर पीटा- Read More »

हनुमान जयंती 2019 Special: बजरंग अली से दलित हनुमान तक, क्‍या है महावीर का Politics से कनेक्‍शन

DRIGRAJ MADHESHIA  |   Updated On : April 19, 2019 10:33 AM

नई दिल्‍ली:  

लोकसभा चुनावों के समय इन दिनों देश में भगवान हनुमान की लगातार चर्चा हो रही है. पिछले साल विधान सभा चुनावों के दौरान भगवान हनुमान की जाति चर्चा में थी, जबकि लोकसभा चुनाव में भी महावीर विक्रम बजरंगी चर्चा में हैं. वीर हनुमान का नाम मात्र लेने से ही सभी कष्‍ट दूर हो जाते हैं वहीं बजरंगबली का नाम लेते ही नेताओं को कष्‍ट झेलने पड़ गए. चुनावी सभा में बजरंग बली का नाम लेने पर निर्वाचन आयोग ने यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ पर जनसभा या प्रेसवार्ता करने पर 16 अप्रैल की सुबह 6 बजे से 72 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया . आइए जानते हैं बजरंग बली का क्‍या है पाॅलिटिकल कनेक्‍शन...

यह भी पढ़ेंः EC के बैन की काट, 72 घंटे चुनाव प्रचार नहीं करेंगे योगी आदित्यनाथ तो जानें क्या करेंगे

हनुमान की जाति को लेकर सबसे पहला बयान यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने दिया था जिसमें उन्होंने 27 नवंबर को अलवर में चुनावी रैली में भाषण के दौरान हनुमान को दलित बताया था. उन्होंने कहा था कि हनुमान वनवासी, वंचित और दलित थे. उनके इस बयान के बाद सियासी गलियारों में जमकर विरोध शुरू हो गया. कोई उन्हें दलित, कोई मुसलमान और कोई उन्हें जाट का बता रहा है, लेकिन अब सांसद कीर्ति आजाद ने उन्हें चीनी बता दिया है.

यह भी पढ़ेंः 8 साल से हनुमान मंदिर की रक्षा कर रहा है ये बंदर, भक्तों के सिर पर हाथ रख देता है आशीर्वाद

कीर्ति आजाद ने कहा था, 'हनुमान जी चीनी थे. हर जगह यह अफवाह उड़ रहा है कि चीनी लोग दावा कर रहे हैं कि हनुमान जी चीनी थे.' बीजेपी सांसद उदित राज ने हनुमान को आदिवासी बताया. उत्तर प्रदेश के धर्मार्थ कार्य मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने विधान परिषद में बहस के दौरान हनुमान को जाट बता दिया.

यह भी पढ़ेंः हनुमान जयंती 2019ः जब प्रभु श्रीराम निकल गए थे अपने परम भक्‍त हनुमान को मारने

बीजेपी विधायक बुक्कल नवाब ने भी हनुमान की जाति को लेकर कहा था कि हनुमान मुस्लिम थे. इसलिए मुसलमानों के नाम रहमान, रमजान, फरहान, सुलेमान, सलमान, जिशान, कुर्बान पर रखे जाते हैं. इसके बाद बुक्कल नवाब मार्च में हनुमान चालीसा का पाठ भी किया. बुक्कल नवाब का कहना है कि उनके पिता दारा नवाब हनुमान जी के भक्त थे और उनकी आत्मा की शांति के लिए ही उन्होंने आज हनुमान चालीसा का पाठ किया है. उन्होंने ये भी कहा कि वो हमेशा से ही हिंदुत्व से प्रेरित रहे हैं और आज का कार्यक्रम राजनीति से प्रेरित नहीं है, आगे भी वो इस तरह के कार्यक्रम जारी रखेंगे.

यह भी पढ़ेंः अमेरिका से रहा है हनुमान जी का नाता! रिसर्च में किया गया दावा

केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सोंघ ने हनुमान को दलित नहीं आर्य बताया तो शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने उन्हें ब्राह्मण बताया. बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद गोपाल नारायण सिंह ने तो यह तक कह दिया कि हनुमान तो बंदर थे और बंदर पशु होता है, जिसका दर्जा दलित से भी नीचे होता है. वो तो राम ने उन्हें भगवान बना दिया.कांग्रेस नेता कमलनाथ ने छिंदवाड़ा में 101.8 फुट ऊंची हनुमान जी की मूर्ति बनवाई है. चुनाव से पहले उन्‍होंने हनुमान मंदिर में पूजा की और मध्य प्रदेश की जनता में भरोसा जताया था.

First Published: Thursday, April 18, 2019 03:17 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Hanuman Jayanti 2019, Spiritual, Spiritual Hindi News, Puja Path, Hanuman Jayanti, Hanuman Jayanti Festival, Hanuman Puja Vidhi, Lord Hanuman Hanuman Jayanti, Cast Of Hanuman, Hanuman Jayanti 2019, Hanuman Chalisa,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

अन्य ख़बरें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो