BREAKING NEWS
  • BJP ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट, चांदनी चौक से डॉ. हर्ष वर्धन और नार्थ ईस्ट दिल्ली से मनोज तिवारी को मिला टिकट- Read More »
  • IPL12, RCB vs CSK, Live: चेन्नई ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला- Read More »
  • एप्पल कंपनी अपने आईफोन्स में इन खास बदलावों की बना रही योजना- Read More »

चीनी या अमेरिका में हो फेसबुक, व्हाट्सएप और टि्वटर का सर्वर तब भी सरकार कर सकती है कार्रवाई

Rahul Dabas  |   Updated On : April 02, 2019 06:48 PM
प्रतिकात्‍मक चित्र

प्रतिकात्‍मक चित्र

नई दिल्‍ली:  

चुनाव आयोग की तरफ से साफ तौर पर गाइडलाइन दी गई है, जो सार्वजनिक है कि किस तरह से सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा सकता है, किस तरह से सोशल मीडिया पर रोक लगाई जा सकती है. आज ही 690 फेक फेसबुक पेज को बैन किया गया है, ऐसी कार्यवाही आगे भी जारी रहेगी.

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस के बाद फेसबुक ने बीजेपी को दिया झटका, नमो ऐप से जुड़े 15 पेज और अकाउंट को हटाए

अगर चाइना की किसी एप्लीकेशन हेलो ने चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन किया है तो ना सिर्फ उनसे जवाब मांगा जाएगा, बल्कि उस कंटेंट को भी हटाया जा सकता है, लेकिन जहां तक पूरी एप्लीकेशन को बंद करने का सवाल है इसके लिए आईटी एक्ट में अलग से प्रावधान है. आमतौर पर पहले कंटेंट हटाने के लिए कहा जाता है ना कि एप्लीकेशन को बंद करने के लिए. इसी तरह से फेसबुक, व्हाट्सएप और टि्वटर पर भी सरकार कार्यवाही करने के लिए कहती है ना कि उन्हें बैन किया जाता है.

यह भी पढ़ेंः क्राइम कंट्रोल: फेसबुक पर हैं सक्रिय तो साइबर अपराधियों से बचें

तकनीकी रूप से देखें तो भले ही इन एप्लीकेशन का मेन सर्वर भारत से बाहर चीनी या अमेरिका में हो, लेकिन अगर भारत सरकार कानून के तहत चाहे तो पूरे देश में ऐसे एप्लीकेशन के ना सिर्फ कंटेंट को हटाया जा सकता है, बल्कि प्रतिबंधित (ब्लॉक) भी की जा सकती है.

First Published: Tuesday, April 02, 2019 06:47 PM

RELATED TAG: Facebook, Whatsapp, Twitter, Servers, China, Us, Lok Sabha Election 2019,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो