Lok sabha election 2019 : केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी के बारे में एक नजर

News State Bureau  |   Updated On : March 03, 2019 02:16:24 PM
स्मृति जुबिन ईरानी (फाइल फोटो)

स्मृति जुबिन ईरानी (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

स्मृति जुबिन ईरानी 2014 का लोकसभा चुनाव अमेठी से लड़ीं थीं. अमेठी कांग्रेस का शुरू से गढ़ रहा है. अमेठी से राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी के नेता नेता कुमार विश्वास भी मैदान में थे. स्मृति ईरानी को राहूल गांधी के हाथों हार का सामना करना पड़ा. लेकिन राज्यसभा सांसद होने के नाते उन्हें भाजपा ने मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया. कुछ वर्षों के बाद उनके इस पद से हटा दिया. उसे कपड़ा मंत्री बनाया गया. उनके कद को और बढ़ाते हुए सूचना और प्रसारण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी बनाया गया. उनके शिक्षा मंत्री के कार्यकाल में उनकी शैक्षिक डिग्री को लेकर काफी विवाद चला था. राहुल गांधी अमेठी से लगातार तीन बार सांसद बने हैं. इससे पहले उसके पिता राजीव गांधी भी वहां से लगातार तीन बार सांसद बने थे.

ये भी पढ़ें - आज राहुल के गढ़ में PM मोदी करेंगे कई घोषणाएं, अमेठी पहुंचने वाले बनेंगे तीसरे गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री

स्मृति ईरानी का राजनीतिक सफर 2003 से शुरू होता है. 2003 में ही उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्य बनीं. 2003 में दिल्ली के चांदनी चौक लोकसभा सीट से चुनाव लड़ी थीं. इस चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल ने स्मृति ईरानी को हरा दिया था. 2004 में भाजपा ने महाराष्ट्र यूथ विंग का उपाध्यक्ष बनाया. 2010 में भारतीय जनता पार्टी ने महिला मोर्चा की जिम्मेदारी दी. 2011 में गुजरात से राज्यसभा सांसद बनीं. 2011 में ही उनको हिमाचल प्रदेश में महिला मोर्चा की कमान सौंप दी. आगामी लोकसभा चुनाव 2019 में भी स्मृति ईरानी राहुल गांधी को कांटे की टक्कर देने के लिए तैयार हैं. चुनाव हारने के बाद भी उन्होंने अमेठी जाना नहीं छोड़ा है. रैली दर रैली कर रही हैं और राहुल गांधी को चुनौती दे रही हैं.

ये भी पढ़ें - lok sabha election 2019 : कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के बारे में एक नजर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण राज्यपाल रामनाईक और प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ कांग्रेस के कब्जे वाले संसदीय क्षेत्र अमेठी में रैली करने जा रहे हैं. वह 540 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात अमेठी वालो को देंगे. इसके साथ ही नौ परियोजनाओं का लोकार्पण व आठ का शिलान्यास करने वाले हैं. इससे साफ होता है कि बीजेपी कांग्रेस से यह सीट छीनने के लिए हर दांव चल रहे हैं. स्मृति ईरानी भी लोगों को लुभाने में जुटी हैं.

ये भी पढ़ें - LOK SABHA ELECTION 2019 : आइए जानते हैं कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी के बारे में

स्मृति ईरानी का जन्म 23 मार्च 1976 को दिल्ली में हुआ था. उन्होंने अपनी शिक्षा दिल्ली से ही प्राप्त की. उन्होंने दसवीं की परीक्षा पास करने के बाद से ही पैसा कमाना शुरू कर दिया. उनका परिवार पंजाबी और बंगाली से संबंधित है. स्मृति तीन बहनें हैं. उनका परिवार बहुत ही रूढ़िवादी था. सारी बंदिशें तोड़कर स्मृति ने ग्लैमर की दुनिया में कदम रखा. उन्होंने 1988 में मिस इंडिया की प्रतियोगिता में भी हिस्सा लिया. लेकिन फाइनल नहीं जीत पाईं. इसके बाद में वह मुंबई चली आईं. उन्होंने टेलिविजन धारावाहिक ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’में तुलसी का किरदार निभाया. इससे उसे काफी लोकप्रियता मिली.

ये भी पढ़ें - बोर्ड परीक्षा देते हुए ऐसा क्या हुआ, छात्रों को गंवानी पड़ी जान

2001 में उन्होंने जुबिन ईरानी पारसी से शादी रचा ली. उनके तीन बच्चे हैं. जौहर ईरानी, जोइश ईरानी और चॉनेले ईरानी. 2001 में उन्हें एक बेटा हुआ. जिसका नाम जौहर है. 2003 में वह एक बेटी की भी मां बनी. जिसका नाम जोइश है. वे शेनियल की सौतेली मां भी हैं. स्मृति ईरानी जुबिन की दूसरी पत्नी हैं. उनके पति जुबिन ईरानी और उनकी पूर्व पत्नी मोना ईरानी की बेटी है. उसके दोनों बच्चे पारसी है.

First Published: Mar 03, 2019 12:44:19 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो