BREAKING NEWS
  • IND vs WI, 1st T20 Live: टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज को 6 विकेट से हराया, मिली ऐतिहासिक जीत- Read More »

योगी बोले-आजम खान जैसे लोगों के लिए ही एंटी रोमियो का गठन किया

IANS  |   Updated On : April 21, 2019 08:56:44 PM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Photo Credit : )

रामपुर/घाटमपुर :  

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ नेता आजम खान पर रविवार को निशाना साधा. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने आजम खान जैसे लोगों के लिए ही एंटी रोमियो का गठन किया है. योगी यहां एक चुनावी जनसभा में सपा नेता आजम खान पर जमकर बरसे और उन्होंने कहा, "पहले की सरकारों ने बहन-बेटियों की सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया था. हमारी सरकार ने आजम खान जैसे लोगों के लिए एंटी रोमियो का गठन किया. अकेली जयाप्रदा जी की बात नहीं है, आजम खान ने पूरी नारी जाति का अपमान किया है और रामपुर इसका जोरदार जवाब देगा. "

यह भी पढ़ेंः Loksabha Election 2019: मायावती ने PM मोदी पर बोला बड़ा हमला, लगाए ये गंभीर आरोप

योगी ने कहा कि प्रदेश में अपराधी या तो जेल में होगा या तो उसका राम-नाम सत्य होगा.योगी ने कहा, "जिस शहर (रामपुर) के नाम में ही मर्यादा पुरुषोत्तम हैं, वहां का प्रतिनिधि अगर किसी स्त्री के सम्मान की चिंता नहीं करता, तो यह निश्चित तौर पर कलंक की बात है. "

यह भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव 2019: मैं BJP की आइटम गर्ल हूं- आज़म खान

मुख्यमंत्री ने कानपुर देहात के घाटमपुर में एक सभा में कांग्रेस पर हमला किया और कहा कि कांग्रेस सरकार जाति विशेष वर्ग के पक्ष में ही बोलती आई है, जबकि मोदी सरकार समाज के प्रत्येक वर्ग को ध्यान में रखकर उन्हें आगे बढ़ाने के लिए प्रयासरत रही है.

यह भी पढ़ेंः तीसरा चरण उत्‍तर प्रदेशः मुलायम परिवार Vs नरेंद्र मोदी, चाचा Vs भतीजा, आजम खान Vs जया प्रदा

उन्होंने कहा, "मोदी जी ने कहा था कि हमारी सरकार देश में किसी भी योजना का लाभ मत या जाति देखकर नहीं देगी, बल्कि प्रत्येक गरीब को, महिलाओं को, नौजवों को, जरूरतमंदों को योजना का लाभ पहुंचाएगी. "

यह भी पढ़ेंः चुनाव आयोग का कोड़ा : योगी आदित्‍यनाथ, मायावती, आजम खान और मेनका गांधी के बाद अब नवजोत सिंह सिद्धू की बारी

योगी ने कहा, "याद कीजिए 2014 का वह समय जब प्रधानमंत्री मोदी जी ने शपथ ली और जो वादे किए थे. उससे पहले के प्रधानमंत्रियों के भी वादे याद कीजिए और दोनों में तुलना कीजिए. स्थिति स्वत: स्पष्ट हो जाएगी कि कौन साम्प्रदायिक है और कौन राष्ट्रवादी है. " उन्होंने कहा कि अबकी बार पहला ऐसा चुनाव है जब प्रत्याशी मौन हो गया है और देश का जागरूक मतदाता देश के लिए चुनाव लड़ रहा है.

First Published: Apr 21, 2019 08:56:38 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो