नोटबंदी और जीएसटी के कारण घटेगी भारत की जीडीपी, वर्ल्ड बैंक ने जताई आशंका

वर्ड बैंक ने अनुमान जातया कि भारत की विकास दर में कमी देखने को मिलेगी। ग्रोथ रेट साल 2015 में 8.6 प्रतिशत थी जो साल जो 2017 में 7.0 तक पहुंच गई है।

  |   Updated On : October 12, 2017 09:38 AM
वर्ल्ड बैंक (फाइल फोटो)

वर्ल्ड बैंक (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

वर्ल्ड बैंक ने अनुमान जताया कि नोटबंदी और जीएसटी के कारण भारत की विकास दर में कमी देखने को मिल सकती है। वर्ल्ड बैंक के मुताबिक भारत की 2015 में जीडीपी 8.6 प्रतिशत थी जो साल 2017 में 7.0 तक पहुंच सकती है।

वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि नोटबंदी और कई अन्य समस्याओं के कारण निजी क्षेत्र के निवेश में कमी देखने को मिली है। इस कारण विकास दर घटने की संभावना है।

इससे पहले अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भी मंगलवार को भारत के जीडीपी ग्रोथ का अनुमान अपने पिछले दो अनुमानों से आधा प्रतिशत घटाकर 6.7 पर्सेंट कर दिया था। यह चीन के 6.8 प्रतिशत से भी कम है।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का युनिवर्सिटी टीचरों को दिवाली गिफ़्ट, शिक्षकों को मिलेगा 7वें वेतन आयोग का लाभ

वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि भारत में अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी और जीएसटी को लेकर छाई अनिश्चितता के कारण प्रभाव पड़ा है। आईएमएफ ने भी इन्हीं कारणों से चिंता जताई थी।

एशियन विकास बैंक ने भी मौजूदा वित्तीय वर्ष के लिए भारत की विकास दर का अनुमान 7.4 प्रतिशत से घटाकर 7 प्रतिशत कर दिया है।

वहीं रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने भी जीडीपी विकास का अनुमान 7.3 से घटाकर 6.7 प्रतिशत तक पहुंचने की आशंका जताई थी।

आपको बता दे कि भारत की वृद्धि दर 2016-17 में 7.1 प्रतिशत और चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 5.7 प्रतिशत थी।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

First Published: Thursday, October 12, 2017 09:06 AM

RELATED TAG: World Bank, Indian Economy, Imf, Gdp,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो