जेटली के बजट को उद्योग जगत की वाह-वाही, गिनाई बेहतरीन बातें

वित्त मंत्री अरुण जेटली के बजट से खुश देश का उद्योग जगत। कहा बजट में घोषित योजनाओं से विकास की राह पर दौड़ेगी देश की अर्थव्यवस्था।

  |   Updated On : February 01, 2017 08:11 PM
बजट से खुश उद्योग जगत (सांकेतिक फाइल फोटो)

बजट से खुश उद्योग जगत (सांकेतिक फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

उद्योग जगत ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के बजट की खुलकर तारीफ की है। उद्योग जगत ने कहा कि बजट में इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में तेजी लाने, अफोर्डेबल हाउसिंग के निर्माण और भारतनेट जैसी योजना की सराहना की है। 

इसके अलावा उद्योग जगत सरकार द्वारा उठाए गए कदम मसलन- एमएसएमई के लिए कॉर्पोरेट करों की दर में कटौती, ग्रामीण इलाकों में महिला शक्ति केंद्र की स्थापना के लिए 500 करोड़ रुपये के आवंटन और भारतनेट परियोजना को विस्तार देने का स्वागत किया है।

आम बजट 2017-18 पर उद्योग जगत ने की राय

फिक्की: फेडरेशन ऑफ इंडियन चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री यानि फिक्की के चेयरमेन पंकज पटेल ने कहा कि "यह बजट निश्चित तौर पर देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती देगा। बजट बिल्कुल सही दिशा में तैयार किया गया है, वित्तीय समझदारी से परिपूर्ण है और देश के प्रशासनिक ढांचे को मजबूत करने वाला है। इस बजट की सबसे बड़ी बात राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में किया गया सुधार है।"

वहीं, फिक्की के महिला संगठन विनिता बिमभेट ने कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि महिला एवं बाल कल्याण के लिए आवंटित 1,84,632 करोड़ रुपये का बजट गरीबी दूर करने और पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लक्ष्य को हासिल करने में मददगार होगा। हम देख सकते हैं कि युवाओं और महिलाओं के कौशल विकास को प्राथमिकता दी गई है, जो सतत विकास के लक्ष्य को हासिल करने के लिए जरूरी भी है। ग्रामीण स्तर पर महिला शक्ति केंद्रों की स्थापना के लिए 500 करोड़ रुपये का बजट महिलाओं के सशक्तिकरण की दिशा में उठाया गया अहम कदम है।"

सीआईआई: कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री, सीआईआई के डायरेक्टर जनरल चंद्रजीत बनर्जी के मुताबिक,"कुल मिलाकर बजट ने भारतीय उद्योग जगत और विदेशी निवेशकों में सकारात्मक माहौल बनाया है कि सरकार वित्तीय दूरदर्शिता के साथ काम करना जारी रखेगी और विकास को गति देने के लिए हरसंभव कदम उठाएगी। कॉर्पोरेट कर में कटौती ने 50 करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाली कंपनियों को खुशी की वजह दी है।"

एसीसीआई: एसीसीआई के अध्यक्ष सुनील कनोरिया ने कहा कि, "नोटबंदी के बाद ग्रामीण क्षेत्र मुसीबत में थे और छोटे उद्यमों तथा अनौपचारिक सेक्टर को प्रोत्साहन की जरूरत थी। कृषि क्षेत्र के लिए 10 लाख करोड़ रुपये का आवंटन, कृषि उत्पादों की बेहतर कीमत मिल सके इसके लिए उठाए गए कदम, ऐसे उपाय हैं जो कृषि क्षेत्र में सुधार की वजह बनेंगे।"

पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री: संगठन के अध्यक्ष गोपाल जिवराजका ने कहा, "सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को जमीनी स्तर पर मजबूत करने के लिए बहुत ही संतुलित बजट पेश किया है। छोटे करदाताओं को कर में छूट दी है, मध्यम एवं लघु उद्योगों और अफोर्डेबल हाउसिंग क्षेत्रों पर ख़ास ध्यान दिया है, यह ऐसे कदम हैं जो विकास दर को तेज करेंगे।"

इसके अलावा अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडी की निवेशक इकाई सोवरीन रिस्क ग्रुप की उपाध्यक्ष विलियम फोस्टर ने भी बजट को बेहतरीन बताया है। उन्होंने कहा कि,"यह बजट सरकार के वित्तीय लक्ष्यों एवं नीतियों का ही अगला कदम है। बजट भाषण में वित्तीय दूरदर्शिता पर बल दिया गया है, जो वित्तीय सुदृढ़ता के लक्ष्य के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है।"

और, अलीबाबा मोबाइल बिजनेस ग्रुप के महाप्रबंधक (ओवरसीज बिजनेस) केन्नी ये ने कहा, "पिछले वर्ष दूरसंचार क्षेत्र में स्पेक्ट्रमों का आवंटन रद्द करने के बाद देश संचार समस्या से गुजर रहा था, भारतनेट परियोजना को विस्तार देने का फैसला देश के 1.5 लाख ग्राम पंचायतों को तेज गति वाला ब्रॉडबैंड सुनिश्चित होगा।"

और पढ़ें-

बजट 2017: RBI में नया पेमेंट रेग्युलेटरी बोर्ड बनाने का प्रस्ताव

बजट 2017: डिजिटल इंडिया पर सरकार का विशेष ध्यान

First Published: Wednesday, February 01, 2017 07:53 PM

RELATED TAG: Budget 2017, Arun Jaitley, Finance Minister,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो