BREAKING NEWS
  • अवैध रूप से मीट बेचने के आरोप में कांग्रेस पार्षद समेत 3 लोग गिरफ्तार- Read More »
  • सौरव गांगुली (Saurav Ganguly) आज BCCI के 39वें अध्‍यक्ष बनेंगे, खत्‍म होगा COA का शासन- Read More »
  • घुमंतू गैंग का सरगना बबलू मुठभेड़ में ढेर, यूपी STF ने किया एनकाउंटर- Read More »

गुजरात: अंतर्जातीय विवाह करने पर ऊंची जाति वालों ने दलित युवक को उतारा मौत के घाट

IANS  |   Updated On : July 09, 2019 07:00:46 PM

(Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  गुजरात में अंतर्जातीय विवाह पर हत्या
  •  दलित समुदाय के लड़के की हत्या
  •  लड़की उच्च जाति से थी परिजनों ने दामाद को मारा

नई दिल्‍ली:  

गुजरात में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. अहमदाबाद के निकट एक कस्बे में ऊंची जाति के लोगों ने एक दलित युवक को सोमवार की रात कथित तौर पर इसलिए काट डाला, क्योंकि उसने अंतर्जातीय विवाह किया. युवक पर हमला उस समय किया गया, जब वह सुरक्षा के लिए गुजरात सरकार की अभयम हेल्पलाइन की एक टीम के साथ अपनी नवविवाहिता पत्नी को उसके मायके से लिवाने गया था.

अहमदाबाद ग्रामीण पुलिस ने अत्याचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत हत्या का मुकदमा दर्ज कर इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है, अन्य सात आरोपी फरार हैं. पुलिस ने कहा कि अन्य आरोपियों की तलाश जारी है, वे सभी एक ही गांव के हैं. अभयम हेल्पलाइन की काउंसलर बाविका भागोरा द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमे के अनुसार, मृतक हरेश सोलंकी 25 साल का था और वह अहमदाबाद जिले की मंडल तहसील के गांव वारमोर में उच्च जाति दरबार समुदाय की अपनी पत्नी उर्मिला झाला को लेने गया था.

हरेश की धारदार हथियार से हत्या करने से पहले लगभग 10 लोगों के समूह ने उस पर हमला किया और गुजरात सरकार की अभयम हेल्पलाइन की आधिकारिक एसयूवी को भी क्षतिग्रस्त कर दिया. हमलावरों ने वाहन की खिड़की के शीशे तोड़ दिए गए. हमले में अभयम टीम के सदस्यों को भी चोट आई है. मौके पर पहुंचे दलित अधिकार कार्यकर्ता किरीट राठौड़ ने मंडल पुलिस थाने के बाहर आईएएनएस को बताया कि हरेश और उर्मिला कादी कस्बे के एक कॉलेज में पढ़ रहे थे. उन्होंने छह महीने पहले शादी कर ली. हरेश सोलंकी कच्छ जिले के गांधीधाम का रहने वाला था.

यह भी पढ़ें-भ्रष्टाचार के खिलाफ CBI की बड़ी कार्रवाई 19 राज्यों के 110 ठिकानों पर छापेमारी जारी

राठौड़ ने कहा, एफआईआर और सोलंकी के परिजनों के अनुसार, "यह एक अंतर्जातीय विवाह था और लड़की का परिवार इसके खिलाफ था, क्योंकि हरेश सोलंकी दलित समुदाय का था. शादी के बाद लड़की के परिजनों ने उर्मिला से मीठी-मीठी बातें कीं और उसे इस वादे के साथ घर ले गए कि वह जल्द ही अपने पति के पास लौट आएगी."

यह भी पढ़ें-दिल्ली में शादी के नाम पर चल रहा था ठगी का खेल, क्राइम ब्रांच ने एक नाइजीरियन समेत 3 को दबोचा

लड़की के परिवार ने जब उसे वापस भेजने से इनकार कर दिया, तब हरेश ने 181 अभयम महिला हेल्पलाइन से संपर्क किया. राठौड़ ने कहा, "हेल्पलाइन की टीम ने लड़की के परिवार को समझाने और उसे हरेश के साथ भेजने का फैसला किया. वे अभयम की गाड़ी से गए. शुरुआत में लड़की के परिवार के सदस्यों ने हेल्पलाइन के सदस्यों और हरेश से बात नहीं की, लेकिन कुछ ही देर बाद वहां कई लोग जुट गए और उन पर हमला कर दिया." 

First Published: Jul 09, 2019 06:57:58 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो