जानें अपने अधिकार

अन्य खबरें

योगी जी! कैसे सुधरेगी कानून व्यवस्था जब, पुलिसकर्मी ही काफी नहीं है

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पुलिस पर भले ही कानून व्यवस्था को बनाए रखने का दबाव बनाती रहे. लेकिन सच्चाई तो ये है कि जितनी संख्या पुलिस कर्मियों की है वो काफी नहीं है.

World Consumer Rights Day: अपने हक को समझें, बनें जागरूक उपभोक्ता

खरीदी गई किसी वस्तु, उत्पाद अथवा सेवा में कमी या उसके कारण होने वाली किसी भी प्रकार की हानि के बदले उपभोक्ताओं को मिला कानूनी संरक्षण ही उपभोक्ता अधिकार है.

जानें अपने अधिकार: दुकानदार नहीं ले सकता थैले के Extra पैसे

फोरम ने आदेश दिया कि ग्राहक को थैले का पैसा देने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता और ऐसा करना सीधे-सीधे सेवा में कमी करना है.

जाने अपने अधिकार: स्वच्छ हवा पाना हमारा हक़ और पर्यावरण को बचाना कर्तव्य

प्रदूषण की वजह से आम लोगों और बच्चों की तबीयत बिगड़ रही है यानी कि उनसे जीने का हक़ छीना जा रहा है। स्वच्छ हवा पाने का अधिकार हम सबको जीवन जीने के अधिकार के तहत मिला है।

अपनी कहानी अपने हिसाब से कहें और वेब वंडर वूमेन बनकर जीतें इनाम

आवाजें होनी जरूरी है लेकिन ऑनलाइन स्पेस पर जब ये आवाजें अगर सही जगह नहीं पहचती हैं तो उसका असर हमारी सहभागिता और आत्मविश्वास पर पड़ता है

जानें अपने अधिकार: संविधान हर नागरिक को उपलब्ध कराता है धर्म की आज़ादी

साल 1976 में भारतीय संविधान के 42वें संशोधन के बाद भारत 'धर्मनिरपेक्ष राज्य' बना। संविधान का अनुच्छेद 25-28 धर्म की स्वतंत्रता के अधिकार को सुनिश्चित करता है।

जानें अपने अधिकार: कानून आपको देता है रोजी-रोटी कमाने का अधिकार

भारत के प्रत्येक नागरिक को उसकी पसंद के मुताबिक रोजी-रोटी कमाने का हक है। इसे संविदान में काम का हक या 'right to work' भी कहा गया है।

जानें अपने अधिकार: महिलाओं के मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न के खिलाफ हैं ये कानून

कई बार कार्यालय, बाहर और घरों में लोगों को न सिर्फ सेक्सुअल हैरसमेंट ही नहीं बल्कि मेंटली हैरेसमेंट (मानसिक उत्पीड़न) का सामना करना पड़ता है।

जानें अपने अधिकार: भारत में किसे है बच्चों को गोद लेने का हक़, क्या कहता है क़ानून

बच्चे और गोद लेने वाले की उम्र में 21 साल का अंतर होना आवश्यक है। 15 साल से कम उम्र और अविवाहित व्यक्ति को ही गोद लिया जा सकता है।

जानें अपने अधिकार: न्यूनतम मज़दूरी और सप्ताह में एक दिन अवकाश हर कर्मचारी का हक़

इसके अलावा किसी भी कर्मचारी को 9 घंटे से ज़्यादा वक़्त तक काम नहीं करवाया जा सकता है और अगर करवाया जाता है तो उसके लिए कंपनी को एक्स्ट्रा पैसा देना होगा।

जानें अपने अधिकार: हर व्यक्ति को स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराना सरकार की है ज़िम्मेदारी

भारतीय संविधान ने भी अनुच्छेद-21 के तहत जीने के अधिकार में 'स्वास्थ्य के अधिकार' को वर्णित किया है। ऐसे में एक व्यक्ति की स्वास्थ्य ज़रूरतों को पूरा करना सरकार की ज़िम्मेदारी है।

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो

फोटो